गाना / Title: उदास शाम किसी ख़ाब में ढली तो है - udaas shaam kisii Kaab me.n Dhalii to hai

चित्रपट / Film: Mahtab (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Ghulam Ali

गीतकार / Lyricist: Qateel Shifai

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



उदास शाम किसी ख़ाब में ढली तो है
यही बहुत है के ताज़ा हवा चली तो है

जो अपनी शाख़ से बाहर अभी नहीं आई
नई बहार की ज़ामिन वही कली तो है

धुवाँ तो झूठ नहीं बोलता कभी यारो
हमारे शहर में बस्ती कोई जली तो है

किसी के इश्क़ में हम जान से गये लेकिन
हमारे नाम से रस्म-ए-वफ़ा चली तो है

हज़ार बन्द हों दैर-ओ-हरम के दरवाज़े
मेरे लिये मेरे महबूब की गली तो है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

udaas shaam kisii Kaab me.n Dhalii to hai
yahii bahut hai ke taazaa hawaa chalii to hai

jo apanii shaaK se baahar abhii nahii.n aa_ii
na_ii bahaar kii zaamin wahii kalii to hai

dhuvaa.N to jhuuTh nahii.n bolataa kabhii yaaro
hamaare shahar me.n bastii ko_ii jalii to hai

kisii ke ishq me.n ham jaan se gaye lekin
hamaare naam se rasm-e-wafaa chalii to hai

hazaar band ho.n dair-o-haram ke darawaaze
mere liye mere mahabuub kii galii to hai