गाना / Title: ख़ाब बिखरे हैं सुहाने क्या क्या - Kaab bikhare hai.n suhaane kyaa kyaa

चित्रपट / Film: Mahtab (Non-Film)

संगीतकार / Music Director: Ghulam Ali

गीतकार / Lyricist: Mohsin Naqvi

गायक / Singer(s): Ghulam Ali

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ख़ाब बिखरे हैं सुहाने क्या क्या
लुट गये अपने ख़ज़ाने क्या क्या

मुड़ के देखा ही था माज़ी की तरफ़
आ मिले यार पुराने क्या क्या

आज देखी है जो तस्वीर तेरी
याद आया है न जाने क्या क्या

सिर्फ़ इक तर्क\-ए\-तअल्लुक़ के लिये
तूने ढूँढे हैं बहाने क्या क्या

रात सहरा की रिदा पर 'मोहसिन'
हर्फ़ लिक्खे थे हवा ने क्या क्या



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

Kaab bikhare hai.n suhaane kyaa kyaa
luT gaye apane Kazaane kyaa kyaa

mu.D ke dekhaa hii thaa maazii kii taraf
aa mile yaar puraane kyaa kyaa

aaj dekhii hai jo tasviir terii
yaad aayaa hai na jaane kyaa kyaa

sirf ik tark\-e\-ta_alluq ke liye
tuune Dhuu.NDhe hai.n bahaane kyaa kyaa

raat saharaa kii ridaa par 'mohasin'
harf likkhe the hawaa ne kyaa kyaa