गाना / Title: पहचान तो थी पहचाना नहीं मैंने, अपने आप को जाना नहीं - pahachaan to thii pahachaanaa nahii.n mai.nne, apane aap ko jaanaa nahii.n

चित्रपट / Film: Griha Pravesh

संगीतकार / Music Director: Kanu Roy

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): Chandrani Mukherjee

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



पहचान तो थी पहचाना नहीं मैंने
अपने आप को जाना नहीं
पहचान तो थी

जब धूप बरसती है सर पे तो
पानी में छाँव खिलती है
मैं भूल गई थी छाँव अगर
मिलती है तो धूप में मिलती है
इस धूप और छाँव की खेल में क्यों
जिनका इशारा समझा नहीं
पहचान ...

मैं जागी रही कुछ सपनों में और
जागी हुई भी सोई रही
जाने किन भूलभुलैया में कुछ
भटकी रही कुछ खोई रही
जिनके लिये मैं मरती रही
जिनका इशारा समझा नहीं
पहचान ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

pahachaan to thI pahachaanaa nahI.n mai.nne
apane aap ko jaanaa nahI.n
pahachaan to thI

jab dhuup barasatI hai sar pe to
paanI me.n chhaa.Nv khilatI hai
mai.n bhuul gaI thI chhaa.Nv agar
milatI hai to dhuup me.n milatI hai
is dhuup aur chhaa.Nv kii khel me.n kyo.n
jinakaa ishaaraa samajhaa nahI.n
pahachaan ...

mai.n jaagii rahI kuchh sapano.n me.n aur
jaagii huI bhI soI rahI
jaane kin bhuulabhulaiyaa me.n kuchh
bhaTakI rahI kuchh khoI rahI
jinake liye mai.n maratI rahI
jinakaa ishaaraa samajhaa nahI.n
pahachaan ...