गाना / Title: मुझे छू रही हैं तेरी नर्म साँसें - mujhe chhuu rahii hai.n terii narm saa.Nse.n

चित्रपट / Film: Swayamvar

संगीतकार / Music Director: Rajesh Roshan

गीतकार / Lyricist: गुलजार-(Gulzar)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          


रफ़ी:	मुझे छू रही हैं तेरी गर्म साँसें
मेरे रात और दिन महकने लगे हैं
लता:	तेरी नर्म साँसों ने ऐसे छुआ हैं
के मेरे तो पाओं बहकने लगे हैं

रफ़ी:	लबों से अगर तुम बुला ना सको तो
निगाहों से तुम नाम लेकर बुला लो
लता:	तुम्हारी निगाहें बहुत बोलती हैं
ज़रा अपनी आँखों पे पलके गिरा दो
रफ़ी:	मुझे छू रही हैं तेरी गर्म साँसें
मेरे रात और दिन महकने लगे हैं

रफ़ी:	पता चल गया है के मंज़िल कहाँ है
चलो दिल के लम्बे सफ़र पे चलेंगे
लता:	सफ़र खत्म कर देंगे हम तो वहीं पर
जहाँ तक तुम्हारे कदम ले चलेंगे
रफ़ी:	मुझे छू रही हैं तेरी गर्म साँसें
मेरे रात और दिन महकने लगे हैं
लता:	तेरी नर्म साँसों ने ऐसे छूआ हैं
के मेरे तो पाओं बहकने लगे हैं

Second version 
मुझे छू रही हैं, तेरी नर्म साँसें
मेरे रात और दिन महकने लगे हैं

जिस दिल में बसते थे, तूफ़ान के बादल
वहाँ अब इश्क़ के, दिये जल रहे हैं

गुमराह फिरता था मैं, एक खोया परवाना
तेरे दिल की शमा ने मक़्सद दिया मुझ को

जो सपने थे मुर्दा तारीकी में खोए
इस मोहब्बत की रोशनी से, जीने लगे हैं

काँटों से भरा था, ये सफ़र मेरा
तेरे दम से गुलाबों का, फ़र्श बिछ गया

वो फूल जो कभी भी खिल न सके थे
आज शबनम की बदौलत, मुस्कुरा रहे हैं

वादा है ये मेरा, न छोड़ूँगा साथ तेरा
मरते दम तक तेरा साथ दूँगा

जिस रूह पे लोग तरस खाते थे
आज फ़रिश्ते भी मुझसे इश्क़ करने लगे हैं

मुझे छू रही हैं, तेरी नर्म साँसें
मेरे रात और दिन महकने लगे हैं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      
rafii:	mujhe chhuu rahii hai.n terii garm saa.Nse.n
mere raat aur din mahakane lage hai.n
lataa:	terii narm saa.Nso.n ne aise chhuaa hai.n
ke mere to paao.n bahakane lage hai.n

rafii:	labo.n se agar tum bulaa naa sako to
nigaaho.n se tum naam lekar bulaa lo
lataa:	tumhaarii nigaahe.n bahut bolatii hai.n
zaraa apanii aa.Nkho.n pe palake giraa do
rafii:	mujhe chhuu rahii hai.n terii garm saa.Nse.n
mere raat aur din mahakane lage hai.n

rafii:	pataa chal gayaa hai ke ma.nzil kahaa.N hai
chalo dil ke lambe safar pe chale.nge
lataa:	safar khatm kar de.nge ham to vahii.n par
jahaa.N tak tumhaare kadam le chale.nge
rafii:	mujhe chhuu rahii hai.n terii garm saa.Nse.n
mere raat aur din mahakane lage hai.n
lataa:	terii narm saa.Nso.n ne aise chhuuaa hai.n
ke mere to paao.n bahakane lage hai.n

## Second version ##
mujhe chhuu rahii hai.n, terii narm saa.Nse.n
mere raat aur din mahakane lage hai.n

jis dil me.n basate the, tuufaan ke baadal
vahaa.N ab ishq ke, diye jal rahe hai.n

gumaraah phirataa thaa mai.n, ek khoyaa paravaanaa
tere dil kii shamaa ne maqsad diyaa mujh ko

jo sapane the murdaa taariikii me.n khoe
is mohabbat kii roshanii se, jiine lage hai.n

kaa.NTo.n se bharaa thaa, ye safar meraa
tere dam se gulaabo.n kaa, farsh bichh gayaa

vo phuul jo kabhii bhii khil na sake the
aaj shabanam kii badaulat, muskuraa rahe hai.n

vaadaa hai ye meraa, na chho.Duu.Ngaa saath teraa
marate dam tak teraa saath duu.Ngaa

jis ruuh pe log taras khaate the
aaj farishte bhii mujhase ishq karane lage hai.n

mujhe chhuu rahii hai.n, terii narm saa.Nse.n
mere raat aur din mahakane lage hai.n