गाना / Title: धूप में निकलो घटाओं में नहाकर देखो - dhuup me.n nikalo ghaTaao.n me.n nahaakar dekho

चित्रपट / Film: Best of Sajda

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist: Nida Fazli

गायक / Singer(s): Jagjit Singh

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

धूप में निकलो घटाओं में नहाकर देखो 
ज़िन्दगी क्या है किताबों को हटाकर देखो 

वो सितारा चमकने दो यूँही आँखों में 
क्या ज़रूरी है उसे जिस्म बनाकर देखो 

पत्थरों में भी ज़ुबां होती है, दिल होता है 
अपने घर के दर\-ओ\-दीवार सजाकर देखो 

फ़ासिला नज़रों का धोखा भी तो हो सकता है 
वो मिले या ना मिले हाथ बढ़ाकर देखो 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

dhuup me.n nikalo ghaTaao.n me.n nahaakar dekho 
zindagii kyA hai kitaabo.n ko haTaakar dekho 

vo sitaaraa chamakane do yuu.Nhii aa.Nkho.n me.n 
kyA zaruurii hai use jism banaakar dekho 

pattharo.n me.n bhI zubaa.n hotI hai, dil hotA hai 
apane ghar ke dar\-o\-dIvaar sajaakar dekho 

faasilaa nazaro.n kA dhokhaa bhI to ho sakataa hai 
vo mile yA nA mile haath ba.Dhaakar dekho