गाना / Title: नफ़रत की लाठी तोड़ो, लालच का खंजर फेंको - nafarat kii laaThii to.Do, laalach kaa kha.njar phe.nko

चित्रपट / Film: Desh Premi

संगीतकार / Music Director:

गीतकार / Lyricist:

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



नफ़रत की लाठी तोड़ो, लालच का खंजर फेंको
ज़िद के पीछे मत दौड़ो,  तुम प्रेम के पंछी हो
देश प्रेमियों, आपस में प्रेम करो देश प्रेमियों ...

देखो, ये धरती, हम सब की माता है
सोचो, आपस में, क्या अपना नाता है
हम आपस में लड़ बैठे,
हम आपस में लड़ बैठे तो देश को कौन सम्भालेगा
कोई बाहर वाला अपने घर से हमें निकालेगा
दीवानों होश करो, मेरे देश प्रेमियों ...

मीठे, पानी में, ये ज़हर न तुम घोलो
जब भी, कुछ बोलो, ये सोच के तुम बोलो
भर जाता है गहरा घाव जो बनता है गोली से
पर वो घाव नहीं भरता जो बना हो कड़वी बोली से
तो मीठे बोल कहो, मेरे देश प्रेमियों ...

तोड़ो, दीवारें, ये चार दिशाओं की
रोको, मत राहें इन, मस्त हवाओं की
पूरब पश्चिम उत्तर दक्खिन वालों मेरा मतलब है
इस माटी से पूछो क्या भाषा क्या इसका मज़हब है
फिर मुझसे बात करो, मेरे देश प्रेमियों ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

nafarat kii laaThii to.Do, laalach kaa kha.njar phe.nko
zid ke piichhe mat dau.Do,  tum prem ke pa.nchhii ho
desh premiyo.n, aapas me.n prem karo desh premiyo.n ...

dekho, ye dharatii, ham sab kii maataa hai
socho, aapas me.n, kyaa apanaa naataa hai
ham aapas me.n la.D baiThe,
ham aapas me.n la.D baiThe to desh ko kaun sambhaalegaa
koI baahar vaalaa apane ghar se hame.n nikaalegaa
diivaano.n hosh karo, mere desh premiyo.n ...

miiThe, paanii me.n, ye zahar na tum gholo
jab bhii, kuchh bolo, ye soch ke tum bolo
bhar jaataa hai gaharaa ghaav jo banataa hai golii se
par vo ghaav nahii.n bharataa jo banaa ho ka.Davii bolii se
to miiThe bol kaho, mere desh premiyo.n ...

to.Do, diivaare.n, ye chaar dishaao.n kii
roko, mat raahe.n in, mast havaao.n kii
puurab pash{}chim uttar dakkhin vaalo.n meraa matalab hai
is maaTii se puuchho kyaa bhaashhaa kyaa isakaa mazahab hai
phir mujhase baat karo, mere desh premiyo.n ...