गाना / Title: औरत ने जनम दिया मर्दोन को, मरदों ने उसे बाज़ार दिया - aurat ne janam diyaa mardon ko, marado.n ne use baazaar diyaa

चित्रपट / Film: Sadhana

संगीतकार / Music Director: N Dutta

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

औरत ने जनम दिया मर्दों को, मर्दों ने उसे बाज़ार दिया 
जब जी चाहा कुचला मसला, जब जी चाहा दुत्कार दिया 

तुलती है कहीं दीनारों में, बिकती है कहीं बाज़ारों में 
नंगी नचवाई जाती है, ऐय्याशों के दरबारों में 
ये वो बेइज़्ज़त चीज़ है जो, बंट जाती है इज़्ज़तदारों में 

मर्दों के लिये हर ज़ुल्म रवाँ, औरत के लिये रोना भी खता 
मर्दों के लिये लाखों सेजें, औरत के लिये बस एक चिता 
मर्दों के लिये हर ऐश का हक़, औरत के लिये जीना भी सज़ा 

जिन होठों ने इनको प्यार किया, उन होठों का व्यापार किया 
जिस कोख में इनका जिस्म ढला, उस कोख का कारोबार किया 
जिस तन से उगे कोपल बन कर, उस तन को ज़लील\-ओ\-खार किया 

मर्दों ने बनायी जो रस्में, उनको हक़ का फ़रमान कहा 
औरत के ज़िन्दा जल जाने को, कुर्बानी और बलिदान कहा 
क़िस्मत के बदले रोटी दी, उसको भी एहसान कहा 

संसार की हर एक बेशर्मी, गुर्बत की गोद में पलती है 
चकलों में ही आ के रुकती है, फ़ाकों में जो राह निकलती है 
मर्दों की हवस है जो अक्सर, औरत के पाप में ढलती है 

औरत संसार की क़िस्मत है, फ़िर भी तक़दीर की होती है 
अवतार पयम्बर जनती है, फिर भी शैतान की बेटी है 
ये वो बदक़िस्मत माँ है जो, बेटों की सेज़ पे लेटी है 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

aurat ne janam diyaa mardo.n ko, mardo.n ne use baazaar diyaa 
jab jii chaahaa kuchalaa masalaa, jab jii chaahaa dutkaar diyaa 

tulatii hai kahii.n diinaaro.n me.n, bikatii hai kahii.n baazaaro.n me.n 
na.ngii nachavaaii jaatii hai, aiyyaasho.n ke darabaaro.n me.n 
ye vo beizzat chiiz hai jo, ba.nT jAtI hai izzatadaaro.n me.n 

mardo.n ke liye har zulm ravaa.N, aurat ke liye ronaa bhii khataa 
mardo.n ke liye laakho.n seje.n, aurat ke liye bas ek chitaa 
mardo.n ke liye har aish kaa haq, aurat ke liye jiinaa bhii sazaa 

jin hoTho.n ne inako pyaar kiyaa, un hoTho.n kaa vyaapaar kiyaa 
jis kokh me.n inakaa jism Dhalaa, us kokh kaa kaarobaar kiyaa 
jis tan se uge kopal ban kar, us tan ko zaliil\-o\-khAr kiyaa 

mardo.n ne banaayii jo rasme.n, unako haq kaa faramaan kahaa 
aurat ke zindaa jal jaane ko, kurbaanii aur balidaan kahaa 
qismat ke badale roTii dii, usako bhii ehasaan kahaa 

sa.nsaar kii har ek besharmii, gurbat kii god me.n palatii hai 
chakalo.n me.n hii aa ke rukatii hai, faako.n me.n jo raah nikalatii hai 
mardo.n kii havas hai jo aksar, aurat ke paap me.n Dhalatii hai 

aurat sa.nsaar kii qismat hai, fir bhii taqadiir kii hotii hai 
avataar payambar janatii hai, phir bhii shaitaan kii beTii hai 
ye vo badaqismat maa.N hai jo, beTo.n kii sez pe leTii hai