गाना / Title: आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं - aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: Jaan Nisar Akhtar

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)chorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



एक है अपनी ज़मीं, एक है अपना गगन
एक है अपना जहाँ, एक है अपना वतन
अपने सभी सुख एक हैं, अपने सभी ग़म एक हैं
आवाज़ दो, आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं

कोरस: आवाज़ दो, आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं

ये वक़्त खोने का नहीं, ये वक़्त सोने का नहीं
जागो वतन ख़तरे में है, सारा चमन खतरे में है
फूलों के चहरे ज़र्द हैं, ज़ुल्फ़ें फ़िज़ा की गर्द हैं
उम्दा हुआ तूफ़ान है, नरवे (नरग़े???) में हिंदुस्तान है
दुश्मन से नफ़रत फ़र्ज़ है, घर की हिफ़ाज़त फ़र्ज़ है
बेदार (???) हो बेदार हो, आमादा\-ए\-पैगार हो (पैकार???)

कोरस: आवाज़ दो, आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं
 
ये है हिमाला की ज़मीं, ताज\-ओ\-अजंता की ज़मीं
संगम हमारी आन है, चित्तौड़ अपनी शान है
गुल्मर्ग का महका चमन, जमुना का तट गोकुल का बन
गंगा के धारे अपने हैं, ये सब हमारे अपने हैं
कह दो कोई दुश्मन नज़र, उठे न भूले से इधर
कह दो के हम बेदार हैं, कह दो के हम तय्यार हैं

कोरस: आवाज़ दो, आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं
 
उठो जवानां\-ए\-वतन, बाँधे हुए सर से कफ़न
उठो दख़न की ओर से, गंग\-ओ\-जमन की ओर से
पंजाब की दिल से उठो, सतलुज की साहिल से उठो
महाराष्ट्र की खाक से, दिल्ली की अर्ज़\-ए\-पाक से
बंगाल से गुजरात से, कश्मीर के बागात से
नेफ़ा से राजस्थान से, पुर्ख़ां के हिंदुस्तान से

कोरस: आवाज़ दो, आवाज़ दो हम एक हैं, हम एक हैं
       हम एक हैं, हम एक हैं, हम एक हैं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ek hai apanii zamii.n, ek hai apanaa gagan
ek hai apanaa jahaa.N, ek hai apanaa vatan
apane sabhii sukh ek hai.n, apane sabhii Gam ek hai.n
aavaaz do, aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n

koras: aavaaz do, aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n

ye vaqt khone kaa nahii.n, ye vaqt sone kaa nahii.n
jaago vatan Katare me.n hai, saaraa chaman khatare me.n hai
phuulo.n ke chahare zard hai.n, zulfe.n fizaa kii gard hai.n
umdaa huaa tuufaan hai, narave (naraGe???) me.n hi.ndustaan hai
dushman se nafarat farz hai, ghar kii hifaazat farz hai
bedaar (???) ho bedaar ho, aamaadaa\-e\-paigaar ho (paikaar???)

koras: aavaaz do, aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n
 
ye hai himaalaa kii zamii.n, taaj\-o\-aja.ntaa kii zamii.n
sa.ngam hamaarii aan hai, chittau.D apanii shaan hai
gulmarg kaa mahakaa chaman, jamunaa kaa taT gokul kaa ban
ga.ngaa ke dhaare apane hai.n, ye sab hamaare apane hai.n
kaha do koii dushman nazar, uThe na bhuule se idhar
kah do ke ham bedaar hai.n, kah do ke ham tayyaar hai.n

koras: aavaaz do, aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n
 
uTho javaanaa.n\-e\-vatan, baa.Ndhe hue sar se kafan
uTho daKan kii or se, ga.ng\-o\-jaman kii or se
pa.njaab kii dil se uTho, sataluj kii saahil se uTho
mahaaraashhTra kii khaak se, dillii kii arz\-e\-paak se
ba.ngaal se gujaraat se, kashmiir ke baagaat se
nefaa se raajasthaan se, purKaa.n ke hi.ndustaan se

koras: aavaaz do, aavaaz do ham ek hai.n, ham ek hai.n
       ham ek hai.n, ham ek hai.n, ham ek hai.n