गाना / Title: बेकस की तबाही के सामान हज़ारों हैं - bekas kii tabaahii ke saamaan hazaaro.n hai.n

चित्रपट / Film: Sone Ki Chidiya

संगीतकार / Music Director: ओ. पी. नय्यर-(O P Nayyar)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

















बेकस की तबाही के सामान हज़ारों हैं
दीपक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ारों हैं

लाचार किया हमको लाचार किया हमको (?)
दुख दर्द जलन आँसू, क्या क्या ना दिया हमको
भगवान तेरे हमपर एहसान हज़ारों हैं
दीपक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ारों हैं

सूरत से तो इन्सां हैं दुश्मन हैं मुहब्बत के
सब चोर हैं डाकू हैं माँ\-बहनों की इज़्ज़त के
कहने को ज़माने में इन्सान हज़ारों हैं
दीपक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ारों हैं

हमदर्द नहीं मिलता फिर आए जहाँ भर में
मोती की तरह प्यासे रोते हैं समन्दर में
अपना ही नहीं कोई अंजान हज़ारों हैं
दीपक तो अकेला है, तूफ़ान हज़ारों हैं



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      















bekas kii tabaahii ke saamaan hazaaro.n hai.n
diipak to akelaa hai, tuufaan hazaaro.n hai.n

laachaar kiyaa hamako laachaar kiyaa hamako (?)
dukh dard jalan aa.Nsuu, kyaa kyaa naa diyaa hamako
bhagavaan tere hamapar ehasaan hazaaro.n hai.n
diipak to akelaa hai, tuufaan hazaaro.n hai.n

suurat se to insaa.n hai.n dushman hai.n muhabbat ke
sab chor hai.n Daakuu hai.n maa.N\-bahano.n kii izzat ke
kahane ko zamaane me.n insaan hazaaro.n hai.n
diipak to akelaa hai, tuufaan hazaaro.n hai.n

hamadard nahii.n milataa phir aae jahaa.N bhar me.n
motii kii tarah pyaase rote hai.n samandar me.n
apanaa hii nahii.n koI a.njaan hazaaro.n hai.n
diipak to akelaa hai, tuufaan hazaaro.n hai.n