गाना / Title: मेरी महबूब कहीं और मिला कर मुझसे - merii mahabuub kahii.n aur milaa kar mujhase

चित्रपट / Film: Ghazal

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ताज तेरे लिये इक मज़हर\-ए\-उल्फ़त ही सही 
तुम को इस वादी\-ए\-रंगीं से अक़ीदत ही सही 





मेरे महबूब कहीं और मिला कर मुझ से

बज़्म\-ए\-शाही में ग़रीबों का गुज़र क्या मानी
सब्त जिस राह पे हों सतवत\-ए\-शाही के निशाँ
उस पे उल्फ़त भरी रूहों का सफ़र क्या मानी






मेरी महबूब पस\-ए\-पदर्आ\-ए\-तश्हीर\-ए\-वफ़ा
तू ने सतवत के निशानों को तो देखा होता
मुदर्आ शाहों के मक़ाबिर से बहलने वाली
अपने तारीक मकानों को तो देखा होता






अनगिनत लोगों ने दुनिया में मुहब्बत की है
कौन कहता है कि सादिक़ न थे जज़्बे उन के
लेकिन उन के लिये तश्हीर का सामान नहीं
क्यों के वो लोग भी अपनी ही तरह मुफ़लिस थे





ये इमारात\-ओ\-मक़ाबिर ये फ़सीलें, ये हिसार
मुतल\-क़ुल्हुक्म शहं_शाहों की अज़मत के सुतूँ
दामन\-ए\-दहर पे उस रंग की गुलकारी है
जिस में शामिल है तेरे और मेरे अजदाद का ख़्हूँ









मेरी महबूब! उन्हें भी तो मुहब्बत होगी
जिनकी सन्नाई ने बख़्ह्शी है इसे शक्ल\-ए\-जमील
उन के प्यारों के मक़ाबिर रहे बेनाम\-ओ\-नमूद
आज तक उन पे जलाई न किसी ने क़ंदील






ये चमनज़ार ये जमुना का किनारा ये महल
ये मुनक़्क़श दर\-ओ\-दीवार, ये महराब ये ताक़
इक शहनशाह ने दौलत का सहारा ले कर
हम ग़रीबों की मुहब्बत का उड़ाया है मज़ाक




मेरे महबूब कहीं और मिला कर मुझसे




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

taaj tere liye ik mazahar\-e\-ulfat hii sahii 
tum ko is vaadii\-e\-ra.ngii.n se aqiidat hii sahii 





mere mahabuub kahii.n aur milaa kar mujh se

bazm\-e\-shaahii me.n Gariibo.n kaa guzar kyaa maanii
sabt jis raah pe ho.n satavat\-e\-shaahii ke nishaa.N
us pe ulfat bharii ruuho.n kaa safar kyaa maanii






merii mahabuub pas\-e\-pad.raa\-e\-tash_hiir\-e\-vafaa
tuu ne satavat ke nishaano.n ko to dekhaa hotaa
mud.raa shaaho.n ke maqaabir se bahalane vaalii
apane taariik makaano.n ko to dekhaa hotaa






anaginat logo.n ne duniyaa me.n muhabbat kii hai
kaun kahataa hai ki saadiq na the jazbe un ke
lekin un ke liye tash_hiir kaa saamaan nahii.n
kyo.n ke vo log bhii apanii hii tarah mufalis the





ye imaaraat\-o\-maqaabir ye fasiile.n, ye hisaar
mutal\-qulhukm shaha.n_shaaho.n kii azamat ke sutuu.N
daaman\-e\-dahar pe us ra.ng kii gulakaarii hai
jis me.n shaamil hai tere aur mere ajadaad kaa Khuu.N









merii mahabuub! unhe.n bhii to muhabbat hogii
jinakii sannaa_ii ne baKhshii hai ise shakl\-e\-jamiil
un ke pyaaro.n ke maqaabir rahe benaam\-o\-namuud
aaj tak un pe jalaa_ii na kisii ne qa.ndiil






ye chamanazaar ye jamunaa kaa kinaaraa ye mahal
ye munaqqash dar\-o\-diivaar, ye maharaab ye taaq
ik shahanashaah ne daulat kaa sahaaraa le kar
ham Gariibo.n kii muhabbat kaa u.Daayaa hai mazaak




mere mahabuub kahii.n aur milaa kar mujhase