गाना / Title: छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी - chho.Do kal kii baate.n, kal kii baat puraanii

चित्रपट / Film: Hum Hindustani

संगीतकार / Music Director: Usha Khanna

गीतकार / Lyricist: Prem Dhawan

गायक / Singer(s): मुकेश-(Mukesh)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी
नए दौर में लिखेंगे, मिल कर नई कहानी
हम हिंदुस्तानी,  हम हिंदुस्तानी

आज पुरानी ज़ंजीरों को तोड़ चुके हैं
क्या देखें उस मंज़िल को जो छोड़ चुके हैं
चांद के दर पर जा पहुंचा है आज ज़माना
नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं
नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी

हम को कितने ताजमहल हैं और बनाने
कितने हैं अजंता हम को और सजाने
अभी पलटना है रुख कितने दरियाओं का
कितने पवर्त राहों से हैं आज हटाने
?

आओ मेहनत को अपना ईमान बनाएं
अपने हाथों से अपना भगवान बनाएं
राम की इस धरती को गौतम कि भूमी को
सपनों से भी प्यारा हिंदुस्तान बनाएं
?

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा के
दीप जलाए हैं ये कितने दीप बुझा के
ली है आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचा के
?

हर ज़र्रा है मोती आँख उठाकर देखो
मिट्टी में सोना है हाथ बढ़ाकर देखो
सोने कि ये गंगा है चांदी की जमुना
चाहो तो पत्थर पे धान उगाकर देखो
?



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

chho.Do kal kii baate.n, kal kii baat puraanii
nae daur me.n likhe.nge, mil kar na_ii kahaanii
ham hi.ndustaanii,  ham hi.ndustaanii

aaj puraanii za.njiiro.n ko to.D chuke hai.n
kyaa dekhe.n us ma.nzil ko jo chho.D chuke hai.n
chaa.nd ke dar par jaa pahu.nchaa hai aaj zamaanaa
nae jagat se ham bhii naataa jo.D chuke hai.n
nayaa khuun hai na_ii uma.nge.n, ab hai na_ii javaanii

ham ko kitane taajamahal hai.n aur banaane
kitane hai.n aja.ntaa ham ko aur sajaane
abhii palaTanaa hai rukh kitane dariyaao.n kaa
kitane pav.rt raaho.n se hai.n aaj haTaane
?

aao mehanat ko apanaa iimaan banaae.n
apane haatho.n se apanaa bhagavaan banaae.n
raam kii is dharatii ko gautam ki bhuumii ko
sapano.n se bhii pyaaraa hi.ndustaan banaae.n
?

daag gulaamii kaa dhoyaa hai jaan luTaa ke
diip jalaae hai.n ye kitane diip bujhaa ke
lii hai aazaadii to phir is aazaadii ko
rakhanaa hogaa har dushman se aaj bachaa ke
?

har zarraa hai motii aa.Nkh uThaakar dekho
miTTii me.n sonaa hai haath ba.Dhaakar dekho
sone ki ye ga.ngaa hai chaa.ndii kii jamunaa
chaaho to patthar pe dhaan ugaakar dekho
?