गाना / Title: ये सोने की दुनिया - ye sone kii duniyaa

चित्रपट / Film: Do Dost

संगीतकार / Music Director: S Mohinder

गीतकार / Lyricist: भरत व्यास-(Bharat Vyas)

गायक / Singer(s): हेमंत कुमार-(Hemant Kumar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ये सोने की दुनिया ये चान्दी की दुनिया
यहाँ आदमी की भला बात क्या है
ये दौलत की दुनिया अमीरों की दुनिया
यहाँ पर गरीबों की औक़ात क्या है
ये सोने कि दुनिया   ...
                     
ये टूटे दिलों के जो तुकड़े पड़े हैं
लगा ले इन्हें दिल से वो दिल कहाँ है
ये फ़ुट्पाथ पर सो रहें हैं मुसाफ़िर
बताये कोई इनकी मंज़िल कहाँ है
मन्ज़िल कहाँ है
बिना रोशनी के ही इनके सवेरे
जो दिन ही अंधेरे तो फिर रात क्या है
ये दौलत की दुनिया अमीरों की दुनिया
यहाँ पर गरीबों की औक़ात क्या है
ये सोने की दुनिया   ...

ये भूखे, ये नंगे ये भिख्मंगे भी तो
किसी दीनबन्धु की सन्तान हैं रे
ये ______ जवानी के जीने का अधिकार
ये भी हम जैसे इन्सान हैं रे
इन्सान हैं रे
ये आँखें बरसती हैं बारहों महीने
इन अश्क़ों के आगे ये बरसात क्या है
ये दौलत की दुनिया अमीरों की दुनिया
यहाँ पर गरीबों की औक़ात क्या है
ये सोने की दुनिया   ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ye sone kii duniyaa ye chaandii kii duniyaa
yahaa.N aadamii kii bhalaa baat kyaa hai
ye daulat kii duniyaa amiiro.n kii duniyaa
yahaa.N par gariibo.n kii auqaat kyaa hai
ye sone ki duniyaa   ...
                     
ye TuuTe dilo.n ke jo tuka.De pa.De hai.n
lagaa le inhe.n dil se vo dil kahaa.N hai
ye fuTpaath par so rahe.n hai.n musaafir
bataaye ko_ii inakii ma.nzil kahaa.N hai
manzil kahaa.N hai
binaa roshanii ke hii inake savere
jo din hii a.ndhere to phir raat kyaa hai
ye daulat kii duniyaa amiiro.n kii duniyaa
yahaa.N par gariibo.n kii auqaat kyaa hai
ye sone kii duniyaa   ...

ye bhuukhe, ye na.nge ye bhikhma.nge bhii to
kisii diinabandhu kii santaan hai.n re
ye ______ javaanii ke jiine kaa adhikaar
ye bhii ham jaise insaan hai.n re
insaan hai.n re
ye aa.Nkhe.n barasatii hai.n baaraho.n mahiine
in ashqo.n ke aage ye barasaat kyaa hai
ye daulat kii duniyaa amiiro.n kii duniyaa
yahaa.N par gariibo.n kii auqaat kyaa hai
ye sone kii duniyaa   ...