गाना / Title: पर्दा है, पर्दा है, पर्दा है पर्दा - pardaa hai, pardaa hai, pardaa hai pardaa

चित्रपट / Film: Amar Akbar Anthony

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



शबाब पे मैं ज़रा सी शराब फैंकूँगा
किसी हसीं की तरफ़ ये ग़ुलाब फैंकूँगा

पर्दा है, पर्दा है
पर्दा है, पर्दा है

पर्दा है पर्दा, पर्दे के पीछे, पर्दा नशीं है
पर्दा नशीं को बे\-पर्दा न कर दूँ तो
अक़बर मेरा नाम नहीं है
पर्दा है पर्दा...

मैं देखता हूँ जिधर, लोग भी उधर देखें
कहाँ ठहरती है जाकर, मेरी नज़र देखें
मेरे ख़्वाबों की शहज़ादी, मैं हूँ अक़बर इलाहबादी
मैं शायर हूँ हसीनों का, मैं आशिक़ महजबीनों का
तेरा दामन न छोड़ूँगा, मैं हर चिल्मन को तोड़ूँगा

न डर ज़ालिम ज़माने से, अदा से या बहाने से
ज़रा अपनी सूरत दिखा दे, समा ख़ूबसूरत बना दे
नहीं तो तेरा नाम लेके, तुझे कोई इल्ज़ाम देके
तुझको इस महफ़िल में रुसवा न कर दूँ तो
अक़बर मेरा नाम नहीं है
पर्दा है पर्दा...

ख़ुदा का शुक्र है, चहरा नज़र तो आया है
हया का रँग निगाहों पे, फिर भी छाया है
किसीकी जान जाती है, किसीको शर्म आती है
कोई आँसू बहाता है, तो कोई मुस्कुराता है
सताकर इस तरह अक़्सर, मज़ा लेते हैं ये दिलबर
यही दस्तूर है इनका, सितम मशहूर है इनका

ख़फ़ा होके चहरा छुपा ले, मगर याद रख हुस्न\-वाले
जो है आग तेरी जवानी, मेरा प्यार है सर्ज़ पानी
मैं तेरे ग़ुस्से को ठंडा न कर दूँ तो
अक़बर मेरा नाम नहीं है
पर्दा है पर्दा...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

shabaab pe mai.n zaraa sii sharaab phai.nkuu.Ngaa
kisii hasii.n kii taraf ye Gulaab phai.nkuu.Ngaa

pardaa hai, pardaa hai
pardaa hai, pardaa hai

pardaa hai pardaa, parde ke piichhe, pardaa nashii.n hai
pardaa nashii.n ko be\-pardaa na kar duu.N to
aqabar meraa naam nahii.n hai
pardaa hai pardaa...

mai.n dekhataa huu.N jidhar, log bhii udhar dekhe.n
kahaa.N Thaharatii hai jaakar, merii nazar dekhe.n
mere Kvaabo.n kii shahazaadii, mai.n huu.N aqabar ilaahabaadii
mai.n shaayar huu.N hasiino.n kaa, mai.n aashiq mahajabiino.n kaa
teraa daaman na chho.Duu.Ngaa, mai.n har chilman ko to.Duu.Ngaa

na Dar zaalim zamaane se, adaa se yaa bahaane se
zaraa apanii suurat dikhaa de, samaa Kuubasuurat banaa de
nahii.n to teraa naam leke, tujhe koii ilzaam deke
tujhako is mahafil me.n rusavaa na kar duu.N to
aqabar meraa naam nahii.n hai
pardaa hai pardaa...

Kudaa kaa shukr hai, chaharaa nazar to aayaa hai
hayaa kaa ra.Ng nigaaho.n pe, phir bhii chhaayaa hai
kisiikii jaan jaatii hai, kisiiko sharm aatii hai
koii aa.Nsuu bahaataa hai, to koii muskuraataa hai
sataakar is tarah aqsar, mazaa lete hai.n ye dilabar
yahii dastuur hai inakaa, sitam mashahuur hai inakaa

Kafaa hoke chaharaa chhupaa le, magar yaad rakh husna\-vaale
jo hai aag terii javaanii, meraa pyaar hai sarz paanii
mai.n tere Gusse ko Tha.nDaa na kar duu.N to
aqabar meraa naam nahii.n hai
pardaa hai pardaa...