गाना / Title: न कोई उमंग है, न कोई तरंग है - na koii uma.ng hai, na koii tara.ng hai

चित्रपट / Film: Kati Patang

संगीतकार / Music Director: राहुलदेव बर्मन-(R D Burman)

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



न कोई उमंग है, न कोई तरंग है
मेरी ज़िंदगी है क्या, इक कटी पतंग है

आकाश से गिरी मैं, इक बार कट के ऐसे
दुनिया ने फिर न पूछा, लूटा है मुझको कैसे
न किसी का साथ है, न किसी का संग
मेरी ज़िंदगी है क्या, इक कटी पतंग है

लग के गले से अपने, बाबुल के मैं न रो सकी
डोली उठी यूँ जैसे, अर्थी उठी हो किसी कि
यही दुख तो आज भी मेरा अंग संग है
मेरी ज़िंदगी है क्या, इक कटी पतंग है

सपनों के देवता क्या, तुझको करूँ मैं अर्पण
पतझड़ की मैं हूँ छाया, मैं आँसुओं का दर्पन
यही मेरा रूप है यही मेरा रँग है
मेरी ज़िंदगी है क्या, इक कटी पतंग है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

na koii uma.ng hai, na koii tara.ng hai
merii zi.ndagii hai kyaa, ik kaTii pata.ng hai

aakaash se girii mai.n, ik baar kaT ke aise
duniyaa ne phir na puuchhaa, luuTaa hai mujhako kaise
na kisii kaa saath hai, na kisii kaa sa.ng
merii zi.ndagii hai kyaa, ik kaTii pata.ng hai

lag ke gale se apane, baabul ke mai.n na ro sakii
Dolii uThii yuu.N jaise, arthii uThii ho kisii ki
yahii dukh to aaj bhii meraa a.ng sa.ng hai
merii zi.ndagii hai kyaa, ik kaTii pata.ng hai

sapano.n ke devataa kyaa, tujhako karuu.N mai.n arpaN
patajha.D kii mai.n huu.N chhaayaa, mai.n aa.Nsuo.n kaa darpan
yahii meraa ruup hai yahii meraa ra.Ng hai
merii zi.ndagii hai kyaa, ik kaTii pata.ng hai