गाना / Title: कभी हैं ग़म कभी खुशियां - kabhii hai.n Gam kabhii khushiyaa.n

चित्रपट / Film: Waris

संगीतकार / Music Director: अनिल बिसवास-(Anil Biswas)

गीतकार / Lyricist: Qamar Jalalabadi

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          

 

कभी हैं ग़म कभी खुशियां यही तो ज़िन्दगानी है
कभी लब पर हँसी है और कभी आँखों में पानी है
कभी हैं ग़म

ने घबरा आसमां पर छा गया है आज अगर बादल \- २
के ये बादल ही चन्दा के निकलने की निशानी है \- २
कभी हैं ग़म

भरा करते हैं ज़ख्म\-ए\-दिल और आँसू भी हैं थम जाते \- २
और आँसू भी हैं थम जाते
बनाई जिसने दुनिया ये उसी की मेहरबानी है \- २
कभी हैं ग़म ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
       

kabhI hai.n Gam kabhI khushiyA.n yahI to zindagAnI hai
kabhI lab par ha.NsI hai aur kabhI A.Nkho.n me.n pAnI hai
kabhI hai.n Gam

ne ghabarA AsamA.n par chhA gayA hai Aj agar bAdal \- 2
ke ye bAdal hI chandA ke nikalane kI nishAnI hai \- 2
kabhI hai.n Gam

bharA karate hai.n zakhm\-e\-dil aur A.NsU bhI hai.n tham jAte \- 2
aur A.NsU bhI hai.n tham jAte
banAI jisane duniyA ye usI kI meharabAnI hai \- 2
kabhI hai.n Gam ...