गाना / Title: गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं (Jagjit Singh ghazal) - gulashan kii faqat phuulo.n se nahii.n ##(Jagjit Singh ghazal)##

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Jagjit Singh

गीतकार / Lyricist: Saba Afghani

गायक / Singer(s): Jagjit Singh

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



गुलशन की फ़क़त फूलों से नहीं
कांटों से भी ज़ीनत होती है
जीने के लिये इस दुनिया में
ग़म की भी ज़रूरत होती है

ऐ वाइज़\-ए\-नादान करता है
तू एक क़यामत का चर्चा
यहाँ रोज़ निगाहें मिलती हैं
यहाँ रोज़ क़यामत होती है

वो पुरसिश\-ए\-ग़म को आये हैं
कुछ कह न सकूं चुप रह न सकूं
ख़ामोश रहूँ तो मुश्किल है
कह दूँ तो शिकायत होती है

करना ही पड़ेगा ज़क़त\-ए\-अलम
पीने ही पड़ेंगे यह आँसू
फ़रियाद\-ओ\-फ़ुग़ां से ऐ नादान
तौहीन\-ए\-मोहब्बत होती है

जो आके रुके दामन पे 'सबा'
वो अश्क़ नहीं हैं पानी है
जो आँसू न छलके आँखों से
उस अश्क़ की क़ीमत होती है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

gulashan kii faqat phuulo.n se nahii.n
kaa.nTo.n se bhii ziinat hotii hai
jiine ke liye is duniyaa me.n
Gam kii bhii zaruurat hotii hai

ai vaa_iz\-e\-naadaan karataa hai
tuu ek qayaamat kaa charchaa
yahaa.N roz nigaahe.n milatii hai.n
yahaa.N roz qayaamat hotii hai

vo purasish\-e\-Gam ko aaye hai.n
kuchh kah na sakuu.n chup rah na sakuu.n
Kaamosh rahuu.N to mushkil hai
kah duu.N to shikaayat hotii hai

karanaa hii pa.Degaa zaqat\-e\-alam
piine hii pa.De.nge yah aa.Nsuu
fariyaad\-o\-fuGaa.n se ai naadaan
tauhiin\-e\-mohabbat hotii hai

jo aake ruke daaman pe 'sabaa'
vo ashq nahii.n hai.n paanii hai
jo aa.Nsuu na chhalake aa.Nkho.n se
us ashq kii qiimat hotii hai