गाना / Title: शरमा के ये क्यों सब पर्दानशीं - sharamaa ke ye kyo.n sab pardaanashii.n

चित्रपट / Film: Chaudhvin Ka Chaand

संगीतकार / Music Director: Ravi

गीतकार / Lyricist: Shakeel

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)chorusShamshad

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




शरमा के ये क्यों सब पर्दानशीं आँचल को सँवारा करता हैं
कुछ ऐसे नज़र वाले भी हैं जो छुप\-छुप के नज़ारा करते हैं

बेताब निगाहों से कह दो जलवों से उल्जहना ठीक नहीं
आना सम्भल के पर्दनशीनों के सामने
झुकती है ज़िंदगी भी हसीनों के सामने
महफ़िल में हुस्न की जो गया शान से गया
जिस ने नज़र मिलायी वही जान से गया
ये नाज़\-ओ\-अदा के मतवाला बेमौत भी मारा करते हैं ...

कोई न हसीनों को पूछे दुनिया में न हो गर दिल्वाले
नज़रें जो न होतीं तो नज़ारा भी न होता
दुनिया में हसीनों का गुज़ारा भी न होता
नज़रों ने सिखायी इन्हें शोख़ी भी हया भी
नज़रों ने बनाया है इन्हें खुद भी खुदा भी
ये हुस्न की इज़्ज़त रखने को हर ज़ुल्म गवारा करते हैं ...

छेड़ें न मुहब्बत के मारे इन चाँद सी सूरत वालों को
अर्ज़ कर दो ये नुक़्ताचीनों से 
कि रहें दूर नाज़नीनों से
अगर ये खुश हों तो  उल्फ़त का अहतराम करें
ज़रा भी ख़फ़ा हों तो क़त्ल\-ए\-आम करें
ये शोख़ नज़र के खंजर भी सीने में उतारा करते हैं




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


sharamaa ke ye kyo.n sab pardaanashii.n aa.Nchal ko sa.Nvaaraa karataa hai.n
kuchh aise nazar vaale bhii hai.n jo chhup\-chhup ke nazaaraa karate hai.n

betaab nigaaho.n se kah do jalavo.n se uljahanaa Thiik nahii.n
aanaa sambhal ke pardanashiino.n ke saamane
jhukatii hai zi.ndagii bhii hasiino.n ke saamane
mahafil me.n husn kii jo gayaa shaan se gayaa
jis ne nazar milaayii vahii jaan se gayaa
ye naaz\-o\-adaa ke matavaalaa bemaut bhii maaraa karate hai.n ...

koii na hasiino.n ko puuchhe duniyaa me.n na ho gar dil_vaale
nazare.n jo na hotii.n to nazaaraa bhii na hotaa
duniyaa me.n hasiino.n kaa guzaaraa bhii na hotaa
nazaro.n ne sikhaayii inhe.n shoKii bhii hayaa bhii
nazaro.n ne banaayaa hai inhe.n khud bhii khudaa bhii
ye husn kii izzat rakhane ko har zulm gavaaraa karate hai.n ...

chhe.De.n na muhabbat ke maare in chaa.Nd sii suurat vaalo.n ko
arz kar do ye nuqtaachiino.n se 
ki rahe.n duur naazaniino.n se
agar ye khush ho.n to  ulfat kaa ahataraam kare.n
zaraa bhii Kafaa ho.n to qatl\-e\-aam kare.n
ye shoK nazar ke kha.njar bhii siine me.n utaaraa karate hai.n