गाना / Title: निगाह-ए-नाज़ के मारों का हाल क्या होगा - nigaah-e-naaz ke maaro.n kaa haal kyaa hogaa

चित्रपट / Film: Barsaat Ki Raat

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)Sudha MalhotraShanker-Shambhu

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अदा बिजली, बदन शोला, भँवे खंजर, नज़र क़ातिल
गलत क्या है हमें कहती है ये दुनिया अगर क़ातिल
तो फिर

निगाह\-ए\-नाज़ के मारों का हाल क्या होगा
न बच सके तो बेचारों का हाल क्या होगा
 
हमी ने इश्क़ के (ज़रा देखो) क़ाबिल बना दिया है तुम्हे
हमी न हो तो नज़ारों का हाल क्या होगा

हमारे हुस्न की बिजली चमक्ने वाली है
न जाने आज हज़रों का हाल क्या होगा

बहार-ए-हुस्न सलामत खिज़ा से पूछ ज़रा
क्या? के चार दिन में बहारों का हाल क्या होगा

रंग पर नाज़ न कर क्यों की रंग बदल जाता है
ये वो महमाँ है जो आज आता है कल जाता है
इश्क़ पर नाज़ करे कोइ तो कुछ बात भी है
हुस्न का नाज़ ही क्या, हुस्न तो ढल जाता है
बहर\-ए\-हुस्न सलामत खिज़ा से पूछ ज़रा
के चार दिन में बहारों का हाल क्या होगा

tarana 

हम अपने चेहरे से पदर्आ उठा तो दे लेकिन
गरीब चाँद-सितारों का हाल क्या होगा

मुक़ाबला है तो फिर देर क्या है तीर चला



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

adaa bijalii, badan sholaa, bha.Nve kha.njar, nazar qaatil
galat kyaa hai hame.n kahatii hai ye duniyaa agar qaatil
to phir

nigaah\-e\-naaz ke maaro.n kaa haal kyaa hogaa
na bach sake to bechaaro.n kaa haal kyaa hogaa
 
hamii ne ishq ke (zaraa dekho) qaabil banaa diyaa hai tumhe
hamii na ho to nazaaro.n kaa haal kyaa hogaa

hamaare husn kii bijalii chamakne vaalii hai
na jaane aaj hazaro.n kaa haal kyaa hogaa

bahaar-e-husn salaamat khizaa se puuchh zaraa
kyaa? ke chaar din me.n bahaaro.n kaa haal kyaa hogaa

ra.ng par naaz na kar kyo.n kii ra.ng badal jaataa hai
ye vo mahamaa.N hai jo aaj aataa hai kal jaataa hai
ishq par naaz kare ko_i to kuchh baat bhii hai
husn kaa naaz hii kyaa, husn to Dhal jaataa hai
bahar\-e\-husn salaamat khizaa se puuchh zaraa
ke chaar din me.n bahaaro.n kaa haal kyaa hogaa

## tarana ##

ham apane chehare se pad.raa uThaa to de lekin
gariib chaa.Nd-sitaaro.n kaa haal kyaa hogaa

muqaabalaa hai to phir der kyaa hai tiir chalaa