गाना / Title: पैसे की कहानी (कहता है इसे पैसा) - paise kii kahaanii (kahataa hai ise paisaa)

चित्रपट / Film: Girl Friend

संगीतकार / Music Director: हेमंत कुमार-(Hemant Kumar)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)हेमंत कुमार-(Hemant Kumar)chorusRanu Mukherjee

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ल: कहता है इसे पैसा बच्चों
    ये चीज़ बड़ी मामूली है
    मगर इसके पीछे
    सब दुनिया रस्ता भूली है

    इनसान की बनाई चीज़ है ये
    मगर इनसान पे भारी हैं
    हर किसी झलक इस पैसे की
    धर्म और इमान पे भारी है
    ये झूठ को सच कर देता है
    और सच को झूठ बनाता है
    भगवान नहीं पर हर घर में
    भगवान की पदवी पाता है

    इस पैसे की बदले दुनिया में
    इन्सानों की मेहनत बिकती है
    जिस्मों की हरारत बिकती है
    रूहों की शराफ़त बिकती है
    करदार खरीदे जाते हैं
    दिलदार खरीदे जाते हैं
    मिट्टी के सही पर इससे ही
    अवतार खरीदे जाते हैं

    इस पैसे के खातिर दुनिया में
    आबाद वतन बिक जाते हैं
    धरती की टुकड़े हो जाती हैं
    लाशों की कफ़न हो जाते हैं
    इज़्ज़त भी इस से मिलती है
    साहील भी इस से मिलते हैं
    तहज़ीब भी इस से आती है
    तालीम भी इस से मिलती है

    हम आज तुम्हें इस पैसे का
    सारा इतिहास बताते हैं
    कितने युग आज तक गुज़रे हैं
    उन सब के झलक दिखलाते हैं
    इक ऐसा वक़्त भी था जग में
    जब इस पैसे का नाम ना था
    चीज़ें चीज़ों पे तुलते थे
    चीज़ों का कुछ भी दाम ना था

    चीज़ों से चीज़ बदलने का
    यह ढंग बहुत बेकार सा था
    लाना भी कठिन था चीज़ों का
    ले जाना भी दुशवार सा था
    इनसान ने तब मिलकर सोचा
    क्यों वक़्त इतना बरबाद करें
    हर चीज़ की जो किमत ठहरे
    उस चीज़ का क्यों ना ईज़ाद करें
    इस तरह हमारे दुनिया मे
    पहला पैसा तैय्यार हुआ
    और इस पैसे की हसरत में
    इनसान ज़लील\-ओ\-खार हुआ

    पैसेवाले इस दुनिया में
    जागीरों के मालिक बन बैठे
    मज़दूरों और किसानों के
    तक़दीर के मालिक बन बैठे
    जंगों में लड़ाया भूखों को
    और अपने सर पर ताज रखा
    निधर्अन को दिया परलोक का सुख
    अपने लिये जग का राज रखा
    पण्डित और मुल्ला इल्क के लिए
    मज़हब के सही फैलाते रहे
    शायर तारीफ़ें लिखते रहे
    गायक दरबारी गाते रहे

सब: ओ ओ ओ ओ ओ

हे:  वैसा ही करेंगे हम जैसा तुझे चाहिये
     पैसा हमें चाहिये

सब: वैसा ही करेंगे हम जैसा तुझे चाहिये
     पैसा हमें चाहिये

     हाल तेरे जोतेंगे खेत तेरे बोयेंगे
     ज़ोर तेरे हाकेंगे घोट तेरा धोयेंगे
     पैसा पैसा
     वैसा ही करेंगे हम जैसा तुझे चाहिये
     पैसा हमें चाहिये

रा: पैसा हाथ में दे दे राजा गुण तेरे गायेंगे
     तेरे बच्चे बच्चियों का खैर मनायेंगे

सब: वैसा ही करेंगे हम जैसा तुझे चाहिये
     पैसा हमें चाहिये

ल:   युग युग से ऐसे दुनिया में
     हम दान के टुकड़े माँगते हैं
     हल जोत के फ़सलें काट के भी
     पकवान के टुकड़े मांगते हैं
     लेकिन इन भीख के टुकड़ों से
     कब भूख का संकट दूर हुआ
     इनसान सदा दुख झेलेगा
     गर खत्म भी यह दस्तूर हुआ
     बोझ बनी है कदमों की
     वह चीज़ पहले गहना थी
     भारत के सपुतों आज तुम्हे
     बस इतने बात ही कहना थी
     जिस वक़्त बड़ा हो जाओगे तुम
     पैसे का राज मिटा देना
     अपना और अपने जैसों का
     (युग युग का कर्ज़ चुका देना) \-२




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

la: kahataa hai ise paisaa bachcho.n
    ye chiiz ba.Dii maamuulii hai
    magar isake piichhe
    sab duniyaa rastaa bhuulii hai

    inasaan kii banaa_ii chiiz hai ye
    magar inasaan pe bhaarii hai.n
    har kisii jhalak is paise kii
    dharm aur imaan pe bhaarii hai
    ye jhuuTh ko sach kar detaa hai
    aur sach ko jhuuTh banaataa hai
    bhagavaan nahii.n par har ghar me.n
    bhagavaan kii padavii paataa hai

    is paise kii badale duniyaa me.n
    insaano.n kii mehanat bikatii hai
    jismo.n kii haraarat bikatii hai
    ruuho.n kii sharaafat bikatii hai
    karadaar khariide jaate hai.n
    diladaar khariide jaate hai.n
    miTTii ke sahii par isase hii
    avataar khariide jaate hai.n

    is paise ke khaatir duniyaa me.n
    aabaad vatan bik jaate hai.n
    dharatii kii Tuka.De ho jaatii hai.n
    laasho.n kii kafan ho jaate hai.n
    izzat bhii is se milatii hai
    saahiil bhii is se milate hai.n
    tahaziib bhii is se aatii hai
    taaliim bhii is se milatii hai

    ham aaj tumhe.n is paise kaa
    saaraa itihaas bataate hai.n
    kitane yug aaj tak guzare hai.n
    un sab ke jhalak dikhalaate hai.n
    ik aisaa vaqt bhii thaa jag me.n
    jab is paise kaa naam naa thaa
    chiize.n chiizo.n pe tulate the
    chiizo.n kaa kuchh bhii daam naa thaa

    chiizo.n se chiiz badalane kaa
    yah Dha.ng bahut bekaar saa thaa
    laanaa bhii kaThin thaa chiizo.n kaa
    le jaanaa bhii dushavaar saa thaa
    inasaan ne tab milakar sochaa
    kyo.n vaqt itanaa barabaad kare.n
    har chiiz kii jo kimat Thahare
    us chiiz kaa kyo.n naa iizaad kare.n
    is tarah hamaare duniyaa me
    pahalaa paisaa taiyyaar hu_aa
    aur is paise kii hasarat me.n
    inasaan zaliil\-o\-khaar hu_aa

    paisevaale is duniyaa me.n
    jaagiiro.n ke maalik ban baiThe
    mazaduuro.n aur kisaano.n ke
    taqadiir ke maalik ban baiThe
    ja.ngo.n me.n la.Daayaa bhuukho.n ko
    aur apane sar par taaj rakhaa
    nidh.ran ko diyaa paralok kaa sukh
    apane liye jag kaa raaj rakhaa
    paNDit aur mullaa ilk ke li_e
    mazahab ke sahii phailaate rahe
    shaayar taariife.n likhate rahe
    gaayak darabaarii gaate rahe

sab: o o o o o

he:  vaisaa hii kare.nge ham jaisaa tujhe chaahiye
     paisaa hame.n chaahiye

sab: vaisaa hii kare.nge ham jaisaa tujhe chaahiye
     paisaa hame.n chaahiye

     haal tere jote.nge khet tere boye.nge
     zor tere haake.nge ghoT teraa dhoye.nge
     paisaa paisaa
     vaisaa hii kare.nge ham jaisaa tujhe chaahiye
     paisaa hame.n chaahiye

raa: paisaa haath me.n de de raajaa guN tere gaaye.nge
     tere bachche bachchiyo.n kaa khair manaaye.nge

sab: vaisaa hii kare.nge ham jaisaa tujhe chaahiye
     paisaa hame.n chaahiye

l:   yug yug se aise duniyaa me.n
     ham daan ke Tuka.De maa.Ngate hai.n
     hal jot ke fasale.n kaaT ke bhii
     pakavaan ke Tuka.De maa.ngate hai.n
     lekin in bhiikh ke Tuka.Do.n se
     kab bhuukh kaa sa.nkaT duur hu_aa
     inasaan sadaa dukh jhelegaa
     gar khatm bhii yah dastuur hu_aa
     bojh banii hai kadamo.n kii
     vah chiiz pahale gahanaa thii
     bhaarat ke saputo.n aaj tumhe
     bas itane baat hii kahanaa thii
     jis vaqt ba.Daa ho jaaoge tum
     paise kaa raaj miTaa denaa
     apanaa aur apane jaiso.n kaa
     (yug yug kaa karz chukaa denaa) \-2