गाना / Title: तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे - terii mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhii dekhe.nge

चित्रपट / Film: Mughal-e-Azam

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: Shakeel

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)chorusShamshad

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



(आलाप)
स: तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे 
घड़ी भर को तेरे नज़दीक आकर हम भी देखेंगे \- २ 
अजी हां हम भी देखेंगे \- २ 

ल: तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे 
तेरे कदमों पे सर अपना झुका कर हम भी देखेंगे \- २ 
अजी हां हम भी देखेंगे \- २ 

स: बहारें आज पैग़ाम\-ए\-मोहब्बत ले के आई हैं 
बड़ी मुद्दत में उम्मीदों की कलियां मुस्कुराई हैं 
बड़ी मुद्दत में अजी हां 
बड़ी मुद्दत में उम्मीदों की कलियां मुस्कुराई हैं 
ग़म\-ए\-दिल से जरा दामन बचाकर हम भी देखेंगे \- २ 
अजी हां हम भी देखेंगे 

ल: अगर दिल ग़म से खाली हो तो जीने का मज़ा क्या है 
ना हो खून\-ए\-जिगर तो अश्क़ पीने का मज़ा क्या है 
ना हो खून\-ए\-जिगर हां हां 
ना हो खून\-ए\-जिगर तो अश्क़ पीने का मज़ा क्या है 
मोहब्बत में जरा आँसू बहाकर हम भी देखेंगे \- २ 
अजी हां हम भी देखेंगे 

स: मोहब्बत करने वालो का है बस इतना ही अफ़साना 
तड़पना चुपके चुपके आहें भरना घुट के मर जाना 
तड़पना चुपके चुपके हां हां 
तड़पना चुपके चुपके आहें भरना घुट के मर जाना 
किसी दिन ये तमाशा मुस्कुरा कर हम भी देखेंगे \- २ 
तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे 
अजी हां हम भी देखेंगे 

ल: मोहब्बत हमने माना ज़िन्दगी बरबाद करती है 
ये क्या कम है के मर जाने से दुनिया याद करती है 
ये क्या कम है अजी हां हाँ 
ये क्या कम है के मर जाने से दुनिया याद करती है 
किसी के इश्क़ में दुनिया लुटाकर हम भी देखेंगे \- २ 
तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे 

ल: तेरे कदमों पे सर अपना झुकाकर आ आ ...
स: घड़ी भर को तेरे नज़दीक आकर आ आ ...
दोनों: तेरी महफ़िल में किस्मत आज़मा कर हम भी देखेंगे 
स: अजी हां हम भी देखेंगे 
ल: अजी हां हम भी देखेंगे 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

(aalaap)
s: terI mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhI dekhe.nge 
gha.Dii bhar ko tere nazadiik aakar ham bhI dekhe.nge \- 2 
ajii haa.n ham bhI dekhe.nge \- 2 

l: terI mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhI dekhe.nge 
tere kadamo.n pe sar apanaa jhukaa kar ham bhI dekhe.nge \- 2 
ajii haa.n ham bhI dekhe.nge \- 2 

s: bahaare.n aaj paiGaam\-e\-mohabbat le ke aaii hai.n 
ba.DI muddat me.n ummiido.n kii kaliyaa.n muskuraaI hai.n 
ba.DI muddat me.n ajii haa.n 
ba.DI muddat me.n ummiido.n kii kaliyaa.n muskuraaI hai.n 
Gam\-e\-dil se jaraa daaman bachaakar ham bhI dekhe.nge \- 2 
ajii haa.n ham bhI dekhe.nge 

l: agar dil Gam se khaalii ho to jiine kA mazaa kyA hai 
nA ho khuun\-e\-jigar to ashq piine kA mazaa kyA hai 
nA ho khuun\-e\-jigar haa.n haa.n 
nA ho khuun\-e\-jigar to ashq piine kA mazaa kyA hai 
mohabbat me.n jaraa aa.Nsuu bahaakar ham bhI dekhe.nge \- 2 
ajii haa.n ham bhI dekhe.nge 

s: mohabbat karane vaalo kA hai bas itanaa hii afasaanaa 
ta.Dapanaa chupake chupake aahe.n bharanaa ghuT ke mar jaanaa 
ta.Dapanaa chupake chupake haa.n haa.n 
ta.Dapanaa chupake chupake aahe.n bharanaa ghuT ke mar jaanaa 
kisii din ye tamaashaa muskuraa kar ham bhI dekhe.nge \- 2 
terI mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhI dekhe.nge 
ajii haa.n ham bhI dekhe.nge 

l: mohabbat hamane maanaa zindagii barabaad karatii hai 
ye kyA kam hai ke mar jaane se duniyA yaad karatii hai 
ye kyA kam hai ajii haa.n haa.N 
ye kyA kam hai ke mar jaane se duniyA yaad karatii hai 
kisii ke ishq me.n duniyA luTaakar ham bhI dekhe.nge \- 2 
terI mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhI dekhe.nge 

l: tere kadamo.n pe sar apanaa jhukaakar aa aa ...
s: gha.Dii bhar ko tere nazadiik aakar aa aa ...
dono.n: terI mahafil me.n kismat aazamaa kar ham bhI dekhe.nge 
s: ajii haa.n ham bhI dekhe.nge 
l: ajii haa.n ham bhI dekhe.nge