गाना / Title: फिर वोही शाम, वही ग़म, वही तनहाई है - phir vohii shaam, vahii Gam, vahii tanahaa_ii hai

चित्रपट / Film: Jahan Ara

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: Rajinder Krishan

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



फिर वोही शाम वही ग़म वही तनहाई है
दिल को समझाने तेरी याद चली आई है

फिर तसव्वुर तेरे पहलू में बिठा जाएगा
फिर गया वक़्त घड़ी भर को पलट आएगा
दिल बहल जाएगा आखिर ये तो सौदाई है
फिर वोही शाम ...

जाने अब तुझ से मुलाक़ात कभी हो के न हो
जो अधूरी रहे वो बात कभी हो के न हो
मेरी मंज़िल तेरी मंज़िल से बिछड़ आई है
फिर वोही शाम ...

फिर तेरे ज़ुल्फ़ के रुखसार की बातें होंगी
हिज्र की रात मगर प्यार की बातें होंगी
फिर मुहब्बत में तड़पने की क़सम खाई है
फिर वोही शाम ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

phir vohii shaam vahii Gam vahii tanahaaI hai
dil ko samajhaane terii yaad chalii aaI hai

phir tasavvur tere pahaluu me.n biThaa jaaegaa
phir gayaa vaqt gha.Dii bhar ko palaT aaegaa
dil bahal jaaegaa aakhir ye to saudaaI hai
phir vohii shaam ...

jaane ab tujh se mulaaqaat kabhii ho ke na ho
jo adhuurii rahe vo baat kabhii ho ke na ho
merii ma.nzil terii ma.nzil se bichha.D aaI hai
phir vohii shaam ...

phir tere zulf ke rukhasaar kii baate.n ho.ngii
hijr kii raat magar pyaar kii baate.n ho.ngii
phir muhabbat me.n ta.Dapane kii qasam khaaI hai
phir vohii shaam ...