गाना / Title: ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम - ai vatan ai vatan hamako terii qasam

चित्रपट / Film: Shaheed

संगीतकार / Music Director: Prem Dhawan

गीतकार / Lyricist: Prem Dhawan

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ 
मर के भी लाल तेरा मरेगा नहीं 
डोली चढ़के तो लाते है दुल्हन सभी 
हँसके हर कोई फाँसी चढ़ेगा नहीं 

जलते भी गये कहते भी गये 
आज़ादी के परवाने 
जीना तो उसीका जीना है 
जो मरना देश पर जाने 

जब शहीदों की डोली उठे धूम से 
देशवालों तुम आँसू बहाना नहीं 
पर मनाओ जब आज़ाद भारत का दिन 
उस घड़ी तुम हमें भूल जाना नहीं 

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम 
तेरी राहों मैं जां तक लुटा जायेंगे 
फूल क्या चीज़ है तेरे कदमों पे हम 
भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे 
ऐ वतन ऐ वतन 

कोई पंजाब से, कोई महाराष्ट्र से 
कोई यू पी से है, कोई बंगाल से 
तेरी पूजा की थाली में लाये हैं हम 
फूल हर रंग के, आज हर डाल से 
नाम कुछ भी सही पर लगन एक है 
जोत से जोत दिल की जगा जायेंगे 
ऐ वतन ऐ वतन ...

तेरी जानिब उठी जो कहर की नज़र
उस नज़र को झुका के ही दम लेंगे हम
तेरी धरती पे है जो कदम ग़ैर का
उस कदम का निशाँ तक मिटा देंगे हम
जो भी दीवार आयेगी अब सामने
ठोकरों से उसे हम गिरा जायेंगे




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

tuu nA ronA, ke tU hai bhagat si.nh kii maa.N 
mar ke bhI laal terA maregaa nahii.n 
Dolii cha.Dhake to laate hai dulhan sabhii 
ha.Nsake har koI phaa.Nsii cha.Dhegaa nahii.n 

jalate bhii gaye kahate bhii gaye 
aazaadii ke paravaane 
jiinaa to usiikaa jiinaa hai 
jo maranaa desh par jaane 

jab shahiido.n kii Dolii uThe dhuum se 
deshavaalo.n tum aa.Nsuu bahaanaa nahii.n 
par manaao jab aazaad bhaarat kA din 
us gha.Dii tum hame.n bhuul jaanaa nahii.n 

ai vatan ai vatan hamako terii qasam 
terii rAho.n mai.n jaa.n tak luTaa jaaye.nge 
phuul kyaa chiiz hai tere kadamo.n pe ham 
bhe.nT apane saro.n kii cha.Dhaa jaaye.nge 
ai vatan ai vatan 

koii pa.njaab se, koii mahaarAshhTr se 
koii yuu pii se hai, koii ba.ngaal se 
terii puujaa kii thaalii me.n laaye hai.n ham 
phuul har ra.ng ke, aaj har Daal se 
naam kuchh bhii sahii par lagan ek hai 
jot se jot dil kii jagaa jaaye.nge 
ai vatan ai vatan ...

terii jaanib uThii jo kahar kii nazar
us nazar ko jhukaa ke hii dam le.nge ham
terii dharatii pe hai jo kadam Gair kaa
us kadam kaa nishaa.N tak miTaa de.nge ham
jo bhii diivaar aayegii ab saamane
Thokaro.n se use ham giraa jaaye.nge