गाना / Title: नग़मा\-ओ\-शेर की सौगात किसे पेश करूँ - naGamaa\-o\-sher kii saugaat kise pesh karuu.N

चित्रपट / Film: Ghazal

संगीतकार / Music Director: मदन मोहन-(Madan Mohan)

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



नग़मा\-ओ\-शेर की सौगात किसे पेश करूँ
ये छलकते हुए जज़बात किसे पेश करूँ

शोख़ आँखों के उजालों को लुटाऊं किस पर
मस्त ज़ुल्फ़ों की सियह रात किसे पेश करूँ

गर्म सांसों में छिपे राज़ बताऊँ किसको
नर्म होठों में दबी बात किसे पेश करूँ

कोइ हमराज़ तो पाऊँ कोई हमदम तो मिले
दिल की धड़कन के इशारत किसे पेश करूँ



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

naGamaa\-o\-sher kii saugaat kise pesh karuu.N
ye chhalakate hue jazabaat kise pesh karuu.N

shoK aa.Nkho.n ke ujaalo.n ko luTaauu.n kis par
mast zulfo.n kii siyah raat kise pesh karuu.N

garm saa.nso.n me.n chhipe raaz bataauu.N kisako
narm hoTho.n me.n dabii baat kise pesh karuu.N

koi hamaraaz to paauu.N koI hamadam to mile
dil kii dha.Dakan ke ishaarat kise pesh karuu.N