गाना / Title: शुरू होता है फिर बातों का मौसम - shuruu hotaa hai phir baato.n kaa mausam

चित्रपट / Film: Shole

संगीतकार / Music Director: राहुलदेव बर्मन-(R D Burman)

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): किशोर कुमार-(Kishore Kumar)आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)chorusManna DeBhupinder

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



शुरू होता है फिर बातों का मौसम
सुहानी चाँदनी रातों का मौसम
बुझाएँ किस तरह दिल की लगी को
लगाएँ आग हम इस चाँदनी को
कि चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो

अर्ज़ किया है ...
हाय, कि चाँद सा कोई चहरा न पहलू में हो
तो चाँदनी का मज़ा नहीं आता
अरे, जाम पीकर शराबी न गिर जाए तो \-२
मयकशी का मज़ाअ नहीं आता
कि चाँद सा कोई चहरा ...

ज़िंदगी है मुकम्मल अधूरी नहीं
चाँद सा कोई चहरा ज़रूरी नहीं
हुस्न सैय्याद है, इश्क़ फ़रियाद है
ये जो दो नाम हैं, दोनों बदनाम हैं
तुम तो नादान हो, ग़म के मेहमान हो
दिल ज़रा थाम लो, अक़्ल से काम लो
अगरच रोशनी होती है साहब सब चिराग़ों से
ज़रा सा फ़र्क़ होता है दिलों में और दिमाग़ों में
ऐ मेरे दोस्तों, अक़्ल से काम लो
बात दिल की करो
क्योंकि...
शेर दिल को न तड़पाके रख दे अगर
तो शायरी का मज़ा नहीं आता
कि चाँद सा कोई चहरा ...

शर्बती आँख के दुश्मनों से बचो
रेश्मी ज़ुल्फ़ की उलझनों से बचो
वो गली छोड़ दो, ये भरम तोड़ दो
यूँ न आहें भरो, इन से तौबा करो
ये जो दिलदार हैं, सब सितमगर हैं
दिल जो देते हैँ ये, तो जान लेते हैं ये
वफ़ा के नाम को आशिक़ कभी रुस्वा नहीं करते
कटा देते हैं वो सर को कभी शिकवा नहीं करते
दिल मचल जाने दो, तीर चल जाने दो, दम निकल जाने दो
और, मौत से आदमी को अगर डर लगे
तो ज़िंदगी का मज़ा आता नहीं
कि चाँद सा कोई चहरा ...

इश्क़ में याद कुछ और होता नहीं
आशिक़ी ख़ूब की, दिल से महबूब की
याद जाती नहीं, नींद आती नहीं
दर्द खिलता नहीं, चैन मिलता नहीं
या ख़ुदा क्या करें, हम दवा क्या करें
दवा दर्द\-ए\-जिगर की पूछते हो तुम दीवाने से
ये दिल की आग बुझेगी फ़क़त आँसू बहाने से
यह सितम किस लिए, ग़म हो कम किस लिए, रोएं हम किस लिए
क्योंकि...
आग पर कोई पानी अगर डाल दे
तो दिल्लगी का मज़ा आता नहीं
चाँद स कोई चहरा ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

shuruu hotaa hai phir baato.n kaa mausam
suhaanii chaa.Ndanii raato.n kaa mausam
bujhaae.N kis tarah dil kii lagii ko
lagaae.N aag ham is chaa.Ndanii ko
ki chaa.Nd saa koii chaharaa na pahaluu me.n ho

arz kiyaa hai ...
haay, ki chaa.Nd saa koii chaharaa na pahaluu me.n ho
to chaa.Ndanii kaa mazaa nahii.n aataa
are, jaam piikar sharaabii na gir jaae to \-2
mayakashii kaa mazaaa nahii.n aataa
ki chaa.Nd saa koii chaharaa ...

zi.ndagii hai mukammal adhuurii nahii.n
chaa.Nd saa koii chaharaa zaruurii nahii.n
husn saiyyaad hai, ishq fariyaad hai
ye jo do naam hai.n, dono.n badanaam hai.n
tum to naadaan ho, Gam ke mehamaan ho
dil zaraa thaam lo, aql se kaam lo
agarach roshanii hotii hai saahab sab chiraaGo.n se
zaraa saa farq hotaa hai dilo.n me.n aur dimaaGo.n me.n
ai mere dosto.n, aql se kaam lo
baat dil kii karo
kyo.nki...
sher dil ko na ta.Dapaake rakh de agar
to shaayarii kaa mazaa nahii.n aataa
ki chaa.Nd saa koii chaharaa ...

sharbatii aa.Nkh ke dushmano.n se bacho
reshmii zulf kii ulajhano.n se bacho
vo galii chho.D do, ye bharam to.D do
yuu.N na aahe.n bharo, in se taubaa karo
ye jo diladaar hai.n, sab sitamagar hai.n
dil jo dete hai.N ye, to jaan lete hai.n ye
vafaa ke naam ko aashiq kabhii rusvaa nahii.n karate
kaTaa dete hai.n vo sar ko kabhii shikavaa nahii.n karate
dil machal jaane do, tiir chal jaane do, dam nikal jaane do
aur, maut se aadamii ko agar Dar lage
to zi.ndagii kaa mazaa aataa nahii.n
ki chaa.Nd saa koii chaharaa ...

ishq me.n yaad kuchh aur hotaa nahii.n
aashiqii Kuub kii, dil se mahabuub kii
yaad jaatii nahii.n, nii.nd aatii nahii.n
dard khilataa nahii.n, chain milataa nahii.n
yaa Kudaa kyaa kare.n, ham davaa kyaa kare.n
davaa dard\-e\-jigar kii puuchhate ho tum diivaane se
ye dil kii aag bujhegii faqat aa.Nsuu bahaane se
yah sitam kis lie, Gam ho kam kis lie, roe.n ham kis lie
kyo.nki...
aag par koii paanii agar Daal de
to dillagii kaa mazaa aataa nahii.n
chaa.Nd sa koii chaharaa ...