गाना / Title: अब चार दिनों की छुट्टी है - ab chaar dino.n kii chhuTTii hai

चित्रपट / Film: आस का पन्छि-(Aas Ka Panchhi)

संगीतकार / Music Director: शंकर - जयकिशन-(Shankar-Jaikishan)

गीतकार / Lyricist: हसरत-(Hasrat)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)chorus

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




ज़मीं काग़ज़ की बन जाये, समुन्दर रोशनाई का
बयाँ फिर भी न होगा हमसे यह किस्सा जुदाई का
 
चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है

को : अब चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
     जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है
 
दिल अपना अभी से धड़के है देखेंगे उन्हें तो क्या होगा
हम होश भी अपने खो देंगे मस्ती से भरा जलवा होगा
वह सामने हो फिर आये मज़ा, कुछ कहना है, कुछ सुनना है

को : अब चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
     जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है
 
वो भी तो हमारी राहों में ज़ुल्फ़ों को सँवारे आयेंगे
और फूल चमेली के गजरे खुश हो के हमें पहनायेंगे
अब चाँद की तरह चमकना है, सूरज की तरह से निकलना है 

को : अब चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
     जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है
 
आँखों में जवाँ शिक़वे होंगे, होंठों पे हँसी लहरायेगी
साग़र से मिलेगी जब नदिया तूफ़ान पे रौनक आयेगी
अब बादल बनके बरसना है, मौजों की तरह से उभरना है

को : अब चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
     जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है
 
वह हमसे कहेंगे शरमाके, परदेस गये थे क्या लाये
हम उनसे कहेंगे जान\-ए\-जहां दिल अपना बचा के ले आये
अब आंख मिलाओ बात करो, हम सामने हैं क्या पदर्आ है

को : अब चार दिनों की छुट्टि है और उनसे जा कर मिलना है
     जिस माँग ने दिल को माँग लिया उस माँग में तारे भरन है
 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


zamii.n kaaGaz kii ban jaaye, samundar roshanaaI kaa
bayaa.N phir bhii na hogaa hamase yah kissaa judaaI kaa
 
chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai

ko : ab chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
     jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai
 
dil apanaa abhii se dha.Dake hai dekhe.nge unhe.n to kyaa hogaa
ham hosh bhii apane kho de.nge mastii se bharaa jalavaa hogaa
vah saamane ho phir aaye mazaa, kuchh kahanaa hai, kuchh sunanaa hai

ko : ab chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
     jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai
 
vo bhii to hamaarii raaho.n me.n zulfo.n ko sa.Nvaare aaye.nge
aur phuul chamelii ke gajare khush ho ke hame.n pahanaaye.nge
ab chaa.Nd kii tarah chamakanaa hai, suuraj kii tarah se nikalanaa hai 

ko : ab chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
     jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai
 
aa.Nkho.n me.n javaa.N shiqave ho.nge, ho.nTho.n pe ha.Nsii laharaayegii
saaGar se milegii jab nadiyaa tuufaan pe raunak aayegii
ab baadal banake barasanaa hai, maujo.n kii tarah se ubharanaa hai

ko : ab chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
     jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai
 
vah hamase kahe.nge sharamaake, parades gaye the kyaa laaye
ham unase kahe.nge jaan\-e\-jahaa.n dil apanaa bachaa ke le aaye
ab aa.nkh milaao baat karo, ham saamane hai.n kyaa pad.raa hai

ko : ab chaar dino.n kii chhuTTi hai aur unase jaa kar milanaa hai
     jis maa.Ng ne dil ko maa.Ng liyaa us maa.Ng me.n taare bharana hai