गाना / Title: हर शाम शाम\-ए\-ग़म है - har shaam shaam\-e\-Gam hai

चित्रपट / Film: Meraa Salaam

संगीतकार / Music Director: Hafiz Khan

गीतकार / Lyricist: Shevan Rizvi

गायक / Singer(s): तलत महमूद-(Talat Mahmood)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




हर शाम शाम\-ए\-ग़म है
हर रात है अंधेरी
अपना नहीं है कोई
क्या ज़िंदगी है मेरी

ग़म सहते सहते ग़म की
(तसवीर बन गया हूँ) \- २
जा ऐ बहार\-ए\-दुनिया
हालत न पूछ मेरी
क्या ज़िंदगी है मेरी
हर शाम शाम\-ए\-ग़म है

सामान\-ए\-ज़िंदगी में
(कुछ भी नहीं बचा है) \- २
एक दर्द रह गया है
और एक याद तेरी
क्या ज़िंदगी है मेरी
हर शाम शाम\-ए\-ग़म है     ...

खुशियों का एक दिन भी
(आया न ज़िंदगी में) \- २
पछता रहा हूँ मैं तो
दुनिया में आ के तेरी
क्या ज़िंदगी है मेरी
हर शाम शाम\-ए\-ग़म है     ...




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


har shaam shaam\-e\-Gam hai
har raat hai a.ndherii
apanaa nahii.n hai ko_ii
kyaa zi.ndagii hai merii

Gam sahate sahate Gam kii
(tasaviir ban gayaa huu.N) \- 2
jaa ai bahaar\-e\-duniyaa
haalat na puuchh merii
kyaa zi.ndagii hai merii
har shaam shaam\-e\-Gam hai

saamaan\-e\-zi.ndagii me.n
(kuchh bhii nahii.n bachaa hai) \- 2
ek dard rah gayaa hai
aur ek yaad terii
kyaa zi.ndagii hai merii
har shaam shaam\-e\-Gam hai     ...

khushiyo.n kaa ek din bhii
(aayaa na zi.ndagii me.n) \- 2
pachhataa rahaa huu.N mai.n to
duniyaa me.n aa ke terii
kyaa zi.ndagii hai merii
har shaam shaam\-e\-Gam hai     ...