गाना / Title: हम छुपे रुस्तम हैं - ham chhupe rustam hai.n

चित्रपट / Film: Chhupa Rustom

संगीतकार / Music Director: सचिन देव बर्मन-(S D Burman)

गीतकार / Lyricist: Neeraj

गायक / Singer(s): chorusManna De

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



हम, छुपे रुस्तम हैं
क़यामत की नज़र रखते हैं
ज़मीं तो क्या है
आस्मां की ख़बर रखते हैं
हम, छुपे रुस्तम हैं ...
 
छुप न पाए कोई तस्वीर, हमारे आगे
टूट जाती है ख़ुद शमशीर हमारे आगे
चल न पाए कोई तदबीर हमारे आगे
सर झुकाती है हर तक़दीर हमारे आगे
 
राह कांटों में बना लेते हैं
आस्मां सर पे उठा लेते हैं
हम अगर तैश में आएं तो
आग पानी में लगा देते हैं
 
हमारे दम से ये ज़माना है
शराब\-ओ\-जाम है, मैख़ाना है
हम जहाँ सर को झुका दें यारों
वहीं काबा, वहीं बुतख़ाना है
 
हम इनसां हैं, इनसां के लिए
दर पे सर रखते हैं
ज़मीं तो क्या है
आस्मां की ख़बर रखते है
हम, छुपे रुस्तम हैं ...
 
तोरी नज़रिया गौरी जैसे
रस की नदी लहराए
एक बार जो डूबे इन में
पल\-पल गोती खाए
ओ शमा ...
पल\-पल गोता खाए
 
नज़र ये तीर भी, तलवार भी है
नज़र इनकार भी, इक़रार भी है
नज़र ये फूल भी, ख़ार भी है
थल भी, मेघ भी, मलहार भी है
 
नज़र दिल की ज़ुबान होती है
मोतियों का मकान होती है
प्यार का इम्तेहान होती है
ज़मीं पर आस्मान होती है
 
नज़र उठ जाए तो दुआ बन जाए
अगर झुक जाए तो हया बन जाए
जो तिरछी हो तो अदा बन जाए
पड़े सीधी तो क़ज़ा बन जाए
 
नज़र कोई भी हो हम
सब पे नज़र रखते हैं
ज़मीं तो क्या है
आस्माँ की ख़बर रखते हैं
हम छुपे रुस्तम हैं ...
 
हम तेरी तलाश में जान\-ए\-जहाँ
जीने का क्या दस्तूर बने
कभी कैस, कभी फ़रहाद
कभी ख़ैय्याम, कभी मंसूर बने
क्या\-क्या न बने हम तेरे लिए
पर, जो भी बने, भरपूर बने
नटखट हम नटवर, तेरे लिए
 
दर\-दर घूमे, बन\-बन भटके
परबत पे गए, सूली पे चढ़े
नित खाए मुक़द्दर से झट के
तेरे घूँघट पट की सलवट में
अट\-अट ये मोरे नैना अटके
झटपट दे हमें दरसन, हम तो
प्यासे हैं, तेरी काली लट के
 
ओ मेरी आरज़ूउ आ
ओ मेरी जुस्तजू आ
ज़रा तू रूबरू आ
ले ही जाएँगे, उठा के
भरी महफ़िल से तुझे
चुरा लें आँख से काजल
वो हुनर रखते हैं
हम, छुपे रुस्तम हैं ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ham, chhupe rustam hai.n
qayaamat kii nazar rakhate hai.n
zamii.n to kyaa hai
aasmaa.n kii Kabar rakhate hai.n
ham, chhupe rustam hai.n ...
 
chhup na paae ko_ii tasviir, hamaare aage
TuuT jaatii hai Kud shamashiir hamaare aage
chal na paae ko_ii tadabiir hamaare aage
sar jhukaatii hai har taqadiir hamaare aage
 
raah kaa.nTo.n me.n banaa lete hai.n
aasmaa.n sar pe uThaa lete hai.n
ham agar taish me.n aae.n to
aag paanii me.n lagaa dete hai.n
 
hamaare dam se ye zamaanaa hai
sharaab\-o\-jaam hai, maiKaanaa hai
ham jahaa.N sar ko jhukaa de.n yaaro.n
vahii.n kaabaa, vahii.n butaKaanaa hai
 
ham inasaa.n hai.n, inasaa.n ke li_e
dar pe sar rakhate hai.n
zamii.n to kyaa hai
aasmaa.n kii Kabar rakhate hai
ham, chhupe rustam hai.n ...
 
torii nazariyaa gaurii jaise
ras kii nadii laharaae
ek baar jo Duube in me.n
pal\-pal gotii khaae
o shamaa ...
pal\-pal gotaa khaae
 
nazar ye tiir bhii, talavaar bhii hai
nazar inakaar bhii, iqaraar bhii hai
nazar ye phuul bhii, Kaar bhii hai
thal bhii, megh bhii, malahaar bhii hai
 
nazar dil kii zubaan hotii hai
motiyo.n kaa makaan hotii hai
pyaar kaa imtehaan hotii hai
zamii.n par aasmaan hotii hai
 
nazar uTh jaae to duaa ban jaae
agar jhuk jaae to hayaa ban jaae
jo tirachhii ho to adaa ban jaae
pa.De siidhii to qazaa ban jaae
 
nazar ko_ii bhii ho ham
sab pe nazar rakhate hai.n
zamii.n to kyaa hai
aasmaa.N kii Kabar rakhate hai.n
ham chhupe rustam hai.n ...
 
ham terii talaash me.n jaan\-e\-jahaa.N
jiine kaa kyaa dastuur bane
kabhii kais, kabhii farahaad
kabhii Kaiyyaam, kabhii ma.nsuur bane
kyaa\-kyaa na bane ham tere li_e
par, jo bhii bane, bharapuur bane
naTakhaT ham naTavar, tere lie
 
dar\-dar ghuume, ban\-ban bhaTake
parabat pe ga_e, suulii pe cha.Dhe
nit khaae muqaddar se jhaTa ke
tere ghuu.NghaT paT kii salavaT me.n
aT\-aT ye more nainaa aTake
jhaTapaT de hame.n darasan, ham to
pyaase hai.n, terii kaalii laT ke
 
o merii aarazuuu aa
o merii justajuu aa
zaraa tuu ruubaruu aa
le hii jaae.Nge, uThaa ke
bharii mahafil se tujhe
churaa le.n aa.Nkh se kaajal
vo hunar rakhate hai.n
ham, chhupe rustam hai.n ...