गाना / Title: ये ज़िंदगी, आज जो तुम्हारे बदन की (Jagjit Singh Ghazal) - ye zi.ndagii, aaj jo tumhaare badan kii ##(Jagjit Singh Ghazal)##

चित्रपट / Film: non-Film

संगीतकार / Music Director: Jagjit Singh

गीतकार / Lyricist: Nida Fazli

गायक / Singer(s): Jagjit Singh

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



ये ज़िंदग़ी !
आज जो, तुम्हारे बदन की छोटी\-बड़ी नसों में
मचल रही है, तुम्हारे पैरों से, चल रही है

ये ज़िंदग़ी !
तुम्हारी आवाज़ में ग़ले से, निकल रही है
तुम्हारे लफ़्ज़ों में, ढल रही है

ये ज़िंदग़ी !
जाने कितनी सदियों से यूँही शक़लें
बदल रही है

बदलती शक़लें
बदलते जिस्मों में
चलता\-फिरता ये इक शरारा
जो इस घड़ी नाम है तुम्हारा
इसी से सारी शहल\-पहल है
इसी से रोशन है हर नज़ारा

सितारे तोड़ो, या घर बसाओ
क़लम उठाओ, या सर झुकाओ

तुम्हारी आँखों की रोश्नी तक
है खेल सारा

ये खेल होगा नहीं दुबारा!
ये खेल होगा नहीं दुबारा!



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

ye zi.ndaGii !
aaj jo, tumhaare badan kii chhoTii\-ba.Dii naso.n me.n
machal rahii hai, tumhaare pairo.n se, chal rahii hai

ye zi.ndaGii !
tumhaarii aavaaz me.n Gale se, nikal rahii hai
tumhaare lafzo.n me.n, Dhal rahii hai

ye zi.ndaGii !
jaane kitanii sadiyo.n se yuu.Nhii shaqale.n
badal rahii hai

badalatii shaqale.n
badalate jismo.n me.n
chalataa\-phirataa ye ik sharaaraa
jo is gha.Dii naam hai tumhaaraa
isii se saarii shahal\-pahal hai
isii se roshan hai har nazaaraa

sitaare to.Do, yaa ghar basaao
qalam uThaao, yaa sar jhukaao

tumhaarii aa.Nkho.n kii roshnii tak
hai khel saaraa

ye khel hogaa nahii.n dubaaraa!
ye khel hogaa nahii.n dubaaraa!