गाना / Title: है बस की हर एक उन के इशारे में निशान और - hai bas kii har ek un ke ishaare me.n nishaan aur

चित्रपट / Film: Mirza Ghalib

संगीतकार / Music Director: Ghulam Mohammad

गीतकार / Lyricist: Mirza Ghalib

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



है बस की हर एक उन के इशारे में निशान और
करते हैं मुहब्बत तो गुज़रता है गुमान और

या रब वो न समझे हैं न समझेंगे मेरी बात
दे और भी दिल इनको जो न दे मुझको ज़ुबाँ और

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएंगे बाज़ार से जाकर दिल\-ओ\-जान और

है और भी दुनिया में सुखनवार बहुत अच्छे
कहते हैं की ग़ालीब का है अंदाज़\-ए\-बयाँ और



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

hai bas kii har ek un ke ishaare me.n nishaan aur
karate hai.n muhabbat to guzarataa hai gumaan aur

yaa rab vo na samajhe hai.n na samajhe.nge merii baat
de aur bhii dil inako jo na de mujhako zubaa.N aur

tum shahar me.n ho to hame.n kyaa Gam jab uThe.nge
le aae.nge baazaar se jaakar dil\-o\-jaan aur

hai aur bhii duniyaa me.n sukhanavaar bahut achchhe
kahate hai.n kii Gaaliib kaa hai a.ndaaz\-e\-bayaa.N aur