गाना / Title: गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है - gaa.Dii bulaa rahii hai, siiTii bajaa rahii hai

चित्रपट / Film: Dost

संगीतकार / Music Director: लक्ष्मीकांत - प्यारेलाल-(Laxmikant-Pyarelal)

गीतकार / Lyricist: आनंद बक्षी-(Anand Bakshi)

गायक / Singer(s): किशोर कुमार-(Kishore Kumar)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



गाड़ी बुला रही है, सीटी बजा रही है
चलना ही ज़िंदगी है, चलती ही जा रही है

देखो वो रेल, बच्चों का खेल, सीखो सबक जवानों
सर पे है बोझ, सीने में आग, लब पर धुवाँ है जानो
फिर भी ये जा रही है, नगमें सुना रही है

आगे तूफ़ान, पीछे बरसात, ऊपर गगन में बिजली
सोचे न बात, दिन हो के रात, सिगनल हुआ के निकली
देखो वो आ रही है, देखो वो जा रही है

आते हैं लोग, जाते हैं लोग, पानी मे जैसे रेले
जाने के बाद, आते हैं याद, गुज़रे हुए वो मेले
यादें बना रही है, यादें मिटा रही है

गाड़ी को देख, कैसी है नेक, अच्छा बुरा न देखे
सब हैं सवार, दुश्मन के यार, सबको चली ये लेके
जीना सिखा रही है, मरना सिखा रही है

गाड़ी का नाम, ना कर बदनाम, पटरी पे रख के सर को
हिम्मत न हार, कर इंतज़ार, आ लौट जाएं घर को
ये रात जा रही है, वो सुबह आ रही है

सुन ये पैगाम, ये है संग्राम, जीवन नहीं है सपना
दरिया को फ़ांद, पवर्त को चीर, काम है ये उसका अपना
नींदें उड़ा रही है, जागो जगा रही है



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

gaa.Dii bulaa rahii hai, siiTii bajaa rahii hai
chalanaa hii zi.ndagii hai, chalatii hii jaa rahii hai

dekho vo rel, bachcho.n kaa khel, siikho sabak javaano.n
sar pe hai bojh, siine me.n aag, lab par dhuvaa.N hai jaano
phir bhii ye jaa rahii hai, nagame.n sunaa rahii hai

aage tuufaan, piichhe barasaat, uupar gagan me.n bijalii
soche na baat, din ho ke raat, siganal huaa ke nikalii
dekho vo aa rahii hai, dekho vo jaa rahii hai

aate hai.n log, jaate hai.n log, paanii me jaise rele
jaane ke baad, aate hai.n yaad, guzare hue vo mele
yaade.n banaa rahii hai, yaade.n miTaa rahii hai

gaa.Dii ko dekh, kaisii hai nek, achchhaa buraa na dekhe
sab hai.n savaar, dushman ke yaar, sabako chalii ye leke
jiinaa sikhaa rahii hai, maranaa sikhaa rahii hai

gaa.Dii kaa naam, naa kar badanaam, paTarii pe rakh ke sar ko
himmat na haar, kar i.ntazaar, aa lauT jaae.n ghar ko
ye raat jaa rahii hai, vo subah aa rahii hai

sun ye paigaam, ye hai sa.ngraam, jiivan nahii.n hai sapanaa
dariyaa ko faa.nd, pava.rt ko chiir, kaam hai ye usakaa apanaa
nii.nde.n u.Daa rahii hai, jaago jagaa rahii hai