गाना / Title: अरे देखी ज़माने की यारी, बिछड़े सभी बारीबारी - are dekhii zamaane kii yaarii, bichha.De sabhii baariibaarii

चित्रपट / Film: Kaagaz Ke Phool

संगीतकार / Music Director: सचिन देव बर्मन-(S D Burman)

गीतकार / Lyricist: Kaifi Azmi

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



अरे देखी ज़माने की यारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी
क्या ले के मिलें अब दुनिया से, आँसू के सिवा कुछ पास नहीं
या फूल ही फूल थे दामन में, या काँटों की भी आस नहीं
मतलब की दुनिया है सारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी

वक़्त है महरबां, आरज़ू है जवां
फ़िक्र कल की करें, इतनी फ़ुर्सत कहाँ

दौर ये चलता रहे रंग उछलता रहे
रूप मचलता रहे, जाम बदलता रहे

रात भर महमाँ हैं बहारें यहाँ
रात गर ढल गयी फिर ये खुशियाँ कहाँ
पल भर की खुशियाँ हैं सारी
बढ़ने लगी बेक़रारी बढ़ने लगी बेक़रारी
अरे देखी ज़माने की यारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी

उड़ जा उड़ जा प्यासे भँवरे, रस ना मिलेगा ख़ारों में
कागज़ के फूल जहाँ खिलते हैं, बैठ ना उन गुलज़ारो में
नादान तमन्ना रेती में, उम्मीद की कश्ती खेती है
इक हाथ से देती है दुनिया, सौ हाथों से लेती है
ये खेल है कब से जारी
बिछड़े सभी, बिछड़े सभी बारी बारी




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

are dekhii zamaane kii yaarii
bichha.De sabhii, bichha.De sabhii baarii baarii
kyaa le ke mile.n ab duniyaa se, aa.NsU ke sivaa kuchh paas nahii.n
yaa phUl hI phUl the daaman me.n, yaa kaa.NTo.n kii bhii aas nahii.n
matalab kii duniyaa hai saarii
bichha.De sabhii, bichha.De sabhii baarii baarii

vaqt hai maharabaa.n, aarazU hai javaa.n
fikr kal kii kare.n, itanii fursat kahaa.N

daur ye chalataa rahe ra.ng uchhalataa rahe
ruup machalataa rahe, jaam badalataa rahe

raat bhar mahamaa.N hai.n bahaare.n yahaa.N
raat gar Dhal gayii phir ye khushiyaa.N kahaa.N
pal bhar kii khushiyaa.N hai.n saarii
ba.Dhane lagii beqaraarii ba.Dhane lagii beqaraarii
are dekhii zamaane kii yaarii
bichha.De sabhii, bichha.De sabhii baarii baarii

u.D jaa u.D jaa pyaase bha.Nvare, ras naa milegaa Kaaro.n me.n
kaagaz ke phUl jahaa.N khilate hai.n, baiTh naa un gulazaaro me.n
naadAn tamannaa retii me.n, ummId kI kashtii khetii hai
ik haath se detii hai duniyaa, sau haatho.n se letii hai
ye khel hai kab se jaarii
bichha.De sabhii, bichha.De sabhii baarii baarii