गाना / Title: ज़िंदगी ज़िंदगी मेरे घर आना, आना ज़िंदगी - zi.ndagii zi.ndagii mere ghar aanaa, aanaa zi.ndagii

चित्रपट / Film: Dooriyan

संगीतकार / Music Director: Jaidev

गीतकार / Lyricist: Sudarshan Faakir

गायक / Singer(s): Bhupinderअनुराधा पौडवाल-(Anuradha Paudwal)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



भू:  ज़िंदगी ज़िंदगी मेरे घर आना \- आना ज़िंदगी
ज़िंदगी मेरे घर आना \- आना ज़िंदगी
अ:  ज़िंदगी ओ ज़िंदगी मेरे घर आना \- आना
मेरे घर आना
अ/भू: ज़िंदगी ज़िंदगी मेरे घर आना \- आना ज़िंदगी

भू:  मेरे घर का सीधा सा इतना पता है
ये घर जो है चारों तरफ़ से खुला है
न दस्तक ज़रूरी, ना आवाज़ देना
मेरे घर का दरवाज़ा कोई नहीं है
हैं दीवारें गुम और छत भी नहीं है
बड़ी धूप है दोस्त
खड़ी धूप है दोस्त
तेरे आंचल का साया चुरा के जीना है जीना 
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी
अ:  ओ ज़िंदगी मेरे घर आना
अ/भू: आना ज़िंदगी \- ज़िंदगी मेरे घर आना

अ:  मेरे घर का सीधा सा इतना पता है
मेरे घर के आगे मुहब्बत लिखा है
न दस्तक ज़रूरी, न आवाज़ देना
मैं सांसों की रफ़्तार से जान लूंगी
हवाओं की खुशबू से पहचान लूंगी
तेरा फूल हूँ दोस्त
तेरी भूल हूँ दोस्त
तेरे हाथों में चेहरा छुपा के जीना है जीना 
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी
भू:  ओ ज़िंदगी मेरे घर आना
अ/भू: आना ज़िंदगी \- ज़िंदगी मेरे घर आना

भू: मगर अब जो आना तो दीरे से आना
ज़माने की शहज़ादी सोई हुई है
ये परियों के सपनों में खोई हुई है
बहुत ख़ूब है ये, तेरा रूप है ये
तेरे आँचल में तेरे दामन में
तेरे आँखों में तेरी पल्कों में
तेरे कदमों इसको बिठाके
जीना है, जीना है
जीना ज़िंदगी, ज़िंदगी
अ:  ओ ज़िंदगी मेरे घर आना
अ/भू: आना ज़िंदगी \- ज़िंदगी मेरे घर आना



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

bhuu:  zi.ndagii zi.ndagii mere ghar aanaa \- aanaa zi.ndagii
zi.ndagii mere ghar aanaa \- aanaa zi.ndagii
a:  zi.ndagii o zi.ndagii mere ghar aanaa \- aanaa
mere ghar aanaa
a/bhuu: zi.ndagii zi.ndagii mere ghar aanaa \- aanaa zi.ndagii

bhuu:  mere ghar kaa siidhaa saa itanaa pataa hai
ye ghar jo hai chaaro.n taraf se khulaa hai
na dastak zaruurii, naa aavaaz denaa
mere ghar kaa daravaazaa koii nahii.n hai
hai.n diivaare.n gum aur chhat bhii nahii.n hai
ba.Dii dhuup hai dost
kha.Dii dhuup hai dost
tere aa.nchal kaa saayaa churaa ke jiinaa hai jiinaa 
jiinaa zi.ndagii, zi.ndagii
a:  o zi.ndagii mere ghar aanaa
a/bhuu: aanaa zi.ndagii \- zi.ndagii mere ghar aanaa

a:  mere ghar kaa siidhaa saa itanaa pataa hai
mere ghar ke aage muhabbat likhaa hai
na dastak zaruurii, na aavaaz denaa
mai.n saa.nso.n kii raftaar se jaan luu.ngii
havaao.n kii khushabuu se pahachaan luu.ngii
teraa phuul huu.N dost
terii bhuul huu.N dost
tere haatho.n me.n cheharaa chhupaa ke jiinaa hai jiinaa 
jiinaa zi.ndagii, zi.ndagii
bhuu:  o zi.ndagii mere ghar aanaa
a/bhuu: aanaa zi.ndagii \- zi.ndagii mere ghar aanaa

bhuu: magar ab jo aanaa to diire se aanaa
zamaane kii shahazaadii soii huii hai
ye pariyo.n ke sapano.n me.n khoii huii hai
bahut Kuub hai ye, teraa ruup hai ye
tere aa.Nchal me.n tere daaman me.n
tere aa.Nkho.n me.n terii palko.n me.n
tere kadamo.n isako biThaake
jiinaa hai, jiinaa hai
jiinaa zi.ndagii, zi.ndagii
a:  o zi.ndagii mere ghar aanaa
a/bhuu: aanaa zi.ndagii \- zi.ndagii mere ghar aanaa