गाना / Title: लाखों है निगाहों में, ज़िंदगी की राह में - laakho.n hai nigaaho.n me.n, zi.ndagii kii raah me.n

चित्रपट / Film: Phir Vahi Dil Laya Hoon

संगीतकार / Music Director: ओ. पी. नय्यर-(O P Nayyar)

गीतकार / Lyricist: मजरूह सुलतान पुरी-(Majrooh)

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



लाखों हैं निगाह में, ज़िंदगी की राह में
सनम हसीन जवाँ
होठों में गुलाब है,  आँखों में शराब है
लेकिन वो बात कहाँ

(लट है किसी की जादू का जाल
रंग डाले किसी पे किसी का जमाल)  \-  २
तौबा ये निगाहें, के रोकती है राहें  
ले लेके तीर कमान
लाखों हैं निगाह में ...

(जानूं ना दीवाना मैं दिल का
कौन है खयालों की मलिका)  \-  २
भीगी भीगी रुत की छाओं तले
मन को कहीं वो आन मिले
कैसे पहचानूँ,  कि नाम नहीं जानूँ
ढूँढे मेरे अरमान
लाखों हैं निगाह में ...

(कभी कभी वो एक मह\-जबीं
डोलती है दिल के पास कहीं)  \-  २
के हैं जो यही बातें
तो होंगी मुलाकातें
कभी वहाँ नहीं तो यहाँ

हाय,  लाखों हैं निगाह में ...



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

laakho.n hai.n nigaah me.n, zi.ndagii kii raah me.n
sanam hasiin javaa.N
hoTho.n me.n gulaab hai,  aa.Nkho.n me.n sharaab hai
lekin vo baat kahaa.N

(laT hai kisii kii jaaduu kaa jaal
ra.ng Daale kisii pe kisii kaa jamaal)  \-  2
taubaa ye nigaahe.n, ke rokatii hai raahe.n  
le leke tiir kamaan
laakho.n hai.n nigaah me.n ...

(jaanuu.n naa diivaanaa mai.n dil kaa
kaun hai khayaalo.n kii malikaa)  \-  2
bhiigii bhiigii rut kii chhaao.n tale
man ko kahii.n vo aan mile
kaise pahachaanuu.N,  ki naam nahii.n jaanuu.N
Dhuu.NDhe mere aramaan
laakho.n hai.n nigaah me.n ...

(kabhii kabhii vo ek maha\-jabii.n
Dolatii hai dil ke paas kahii.n)  \-  2
ke hai.n jo yahii baate.n
to ho.ngii mulaakaate.n
kabhii vahaa.N nahii.n to yahaa.N

haay,  laakho.n hai.n nigaah me.n ...