गाना / Title: ये जो ज़िंदगी है - ye jo zi.ndagii hai

चित्रपट / Film: 1947 Earth

संगीतकार / Music Director: ए. आर. रहमान-(A. R. Rahman)

गीतकार / Lyricist: जावेद अख्तर-(Javed Akhtar)

गायक / Singer(s): chorusSukhvinder SinghSujata TrivediSrinivas

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




सुख: जो अफ़साने दिल ने बुने
      उनको कोई दिल ही सुने
      हम हौले हौले प्यार की धुंदली फ़िज़ाओं में आये
      गहरे गहरे हैं ख़्वाब की नीली घटाओं के साये
      हम तुम दोनों खोये खोये
      सपने देखें जागे सोये
      गुमसुम हैराँ

को: (ये जो ज़िंदगी है कोई दास्ताँ है
      कब होगा क्या ये खबर कहाँ है
      ये जो ज़िंदगी है कोई कारवाँ है
      कहाँ जायेगी ये खबर कहाँ है) \-२

सुजा:बहती हैं चिंगारियाँ जैसे
      सर से पाँव तक नस नस में
      हल्का हल्का होश है लेकिन
      कुछ भी नहीं अब मेरे बस में

      मेरे अंग अंग में बेचैनी बिजली बनके लहराये
      एक मीठे मीठे दर्द का बादल तन मन पर छाये
      साँसें उलझे धड़के ये दिल
      जाने कैसे मेरी मुश्किल
      होगी आसाँ

को:   (ये जो ज़िंदगी है कोई दास्ताँ है
      कब होगा क्या ये खबर कहाँ है
      ये जो ज़िंदगी है कोई कारवाँ है
      कहाँ जायेगी ये खबर कहाँ है) \-३

सुख: अरे काश मेरी इन आँखों की अब रोशनी बुझ जाये
      मैं ने देखा था जो ख़्वाब वो मुझको न कभी याद आये
      ऐसे बरसे ग़म के तीशे
      टूटे दिल के सारे शीशे
      दिल है वीराँ

को:   (ये जो ज़िंदगी है कोई दास्ताँ है
      कब होगा क्या ये खबर कहाँ है
      ये जो ज़िंदगी है कोई कारवाँ है
      कहाँ जायेगी ये खबर कहाँ है) \-२




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


sukh: jo afasaane dil ne bune
      unako koii dil hii sune
      ham haule haule pyaar kii dhu.ndalii fizaao.n me.n aaye
      gahare gahare hai.n Kvaab kii niilii ghaTaao.n ke saaye
      ham tum dono.n khoye khoye
      sapane dekhe.n jaage soye
      gumasum hairaa.N

ko: (ye jo zi.ndagii hai koii daastaa.N hai
      kab hogaa kyaa ye khabar kahaa.N hai
      ye jo zi.ndagii hai koii kaaravaa.N hai
      kahaa.N jaayegii ye khabar kahaa.N hai) \-2

sujaa:bahatii hai.n chi.ngaariyaa.N jaise
      sar se paa.Nv tak nas nas me.n
      halkaa halkaa hosh hai lekin
      kuchh bhii nahii.n ab mere bas me.n

      mere a.ng a.ng me.n bechainii bijalii banake laharaaye
      ek miiThe miiThe dard kaa baadal tan man par chhaaye
      saa.Nse.n ulajhe dha.Dake ye dil
      jaane kaise merii mushkil
      hogii aasaa.N

ko:   (ye jo zi.ndagii hai koii daastaa.N hai
      kab hogaa kyaa ye khabar kahaa.N hai
      ye jo zi.ndagii hai koii kaaravaa.N hai
      kahaa.N jaayegii ye khabar kahaa.N hai) \-3

sukh: are kaash merii in aa.Nkho.n kii ab roshanii bujh jaaye
      mai.n ne dekhaa thaa jo Kvaab vo mujhako na kabhii yaad aaye
      aise barase Gam ke tiishe
      TuuTe dil ke saare shiishe
      dil hai viiraa.N

ko:   (ye jo zi.ndagii hai koii daastaa.N hai
      kab hogaa kyaa ye khabar kahaa.N hai
      ye jo zi.ndagii hai koii kaaravaa.N hai
      kahaa.N jaayegii ye khabar kahaa.N hai) \-2