गाना / Title: आप की महकी हुई ज़ुल्फ़ को कहते हैं घटा - aap kii mahakii hu_ii zulf ko kahate hai.n ghaTaa

चित्रपट / Film: Trishul

संगीतकार / Music Director: Khaiyyam

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): लता मंगेशकर-(Lata Mangeshkar)Yesudas

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          




य: आप की महकी हुई ज़ुल्फ़ को कहते हैं घटा
य: आप की मदभरी आँखों को कँवल कहते हैं
ल: मैं तो कुछ भी नहीं तुम को हसीं लगती हूँ
ल: इस को चाहत भरी नज़रों का अमल कहते हैं

य: एक हम ही नहीं सब देखने वाले तुम को
य: सन्ग-ए-मर्मर पे लिखी शोख़्ह ग़ज़ल कहते हैं
ल: ऐसी बातें न करो जिन का यक़ीं मुश्किल हो
ल: ऐसी तारीफ़ को नियात का ख़्हलल कहते हैं

य: मेरी तक़दीर कि तुम ने मुझे अपना समझा
ल: मेरी तक़दीर कि तुम ने मुझे अपना समझा
य, ल: इस को सदियों की तमन्नाओं का फल कहते हैं - २




        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      


y: aap kii mahakii hu_ii zulf ko kahate hai.n ghaTaa
y: aap kii madabharii aa.Nkho.n ko ka.Nval kahate hai.n
l: mai.n to kuchh bhii nahii.n tum ko hasii.n lagatii huu.N
l: is ko chaahat bharii nazaro.n kaa amal kahate hai.n

y: ek ham hii nahii.n sab dekhane vaale tum ko
y: sang-e-marmar pe likhii shoKh Gazal kahate hai.n
l: aisii baate.n na karo jin kaa yaqii.n mushkil ho
l: aisii taariif ko niyaat kaa Khalal kahate hai.n

y: merii taqadiir ki tum ne mujhe apanaa samajhaa
l: merii taqadiir ki tum ne mujhe apanaa samajhaa
y, l: is ko sadiyo.n kii tamannaao.n kaa phal kahate hai.n - 2