गाना / Title: निर्धन का घर लूटने वालों, लूट लो दिल का प्यार - nirdhan kaa ghar luuTane vaalo.n, luuT lo dil kaa pyaar

चित्रपट / Film: Baiju Bawra

संगीतकार / Music Director: नौशाद अली-(Naushad)

गीतकार / Lyricist: Shakeel

गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



निर्धन का घर लूटने वालों
लूट लो दिल का प्यार
प्यार वो धन है जिसके आगे
सब धन है बेकार
इन्सान बनो, इन्सान बनो करलो भलाई का कोई काम
इन्सान बनो
दुनिया से चले जाएगा रह जाएगा बदनाम इन्सान बनो

ओ ...
इस बाग में सूरज भी निकलता है लिये ग़म
फूलों की हँसी देख के रो देती है शबनम
कुछ देर की खुशियाँ हैं तो कुछ देर का मातम
किस नींद में हो ...
किस नींद में हो जागो ज़रा देख लो अन्जाम, इन्सान बनो

ओ ...
लाखों यहाँ शान अपनी दिखाते हुए आये
दम भर को रहे नाच गये धूप में साये
वो भूल गये थे के ये दुनिया है सराय
आता है कोई ...
आता है कोई सुबह को जाता है कोई शाम, इन्सान बनो

ओ ...
क्यों तुमने बिछाये हैं यहाँ ज़ुल्म के डेरे
धन साथ न जायेगा बने क्यों हो लुटेरे
पीते हो गरीबों का लहू शाम सवेरे
खुद पाप करो ...
खुद पाप करो नाम हो शैतान का बदनाम, इन्सान बनो



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

nirdhan kaa ghar lUTane vaalo.n
luuT lo dil kaa pyaar
pyaar vo dhan hai jisake aage
sab dhan hai bekaar
insaan bano, insaan bano karalo bhalaaI kaa koI kaam
insaan bano
duniyaa se chale jaaegaa rah jaaegaa badanaam insaan bano

o ...
is baag me.n sUraj bhii nikalataa hai liye Gam
phUlo.n kii ha.Nsii dekh ke ro detii hai shabanam
kuchh der kii khushiyaa.N hai.n to kuchh der kaa maatam
kis nii.nd me.n ho ...
kis nii.nd me.n ho jaago zaraa dekh lo anjaam, insaan bano

o ...
laakho.n yahaa.N shaan apanii dikhaate hue aaye
dam bhar ko rahe naach gaye dhUp me.n saaye
vo bhUl gaye the ke ye duniyaa hai saraay
aataa hai koI ...
aataa hai koI subah ko jaatA hai koI shaam, insaan bano

o ...
kyo.n tumane bichhaaye hai.n yahaa.N zulm ke Dere
dhan saath na jaayegaa bane kyo.n ho luTere
piite ho gariibo.n kaa lahuu shaam savere
khud paap karo ...
khud paap karo naam ho shaitaan kA badanaam, insaan bano