गाना / Title: जी चाहता है चूम लूँ अपनी नज़र को मैं - jii chaahataa hai chuum luu.N apanii nazar ko mai.n

चित्रपट / Film: Barsaat Ki Raat

संगीतकार / Music Director: Roshan

गीतकार / Lyricist: साहिर-(Sahir)

गायक / Singer(s): आशा भोसले-(Asha)Sudha MalhotraBalbirBande Hasan

Lyrics in English - ASCII
देवनागरी बोल :
          



आआआ ~~~~~ न खंजर उठेगा न तलवार तुमसे
आअ ये बाज़ू मेरे आज़माये हुए हैं

और पहचानता हूँ खूब तुम्हारी नज़र को मैं
भै! जाने न दूँगा हाथ से दिल और जिगर को मैं

दिल ऐसी शह नहीं है जो काबू में रह सके
भै! समझाऊँ किस तरह ये किसी बेखबर को मैं

आयी है उनके चाँद से चहरे को चूम कर
भै! जी चाहता है चूम लूँ अपनी नज़र को मैन

गो ज़ुल्म बेहिसाब किया इस निगह ने
रुसवा किया खराब किया इस निगह ने
इक काम लाजवाब किया इस निगह ने
जो तुझको इंतखाब किया इस निगाह ने
भै! जी चाहता है चूम लूँ अपनी नज़र को मैं

इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश फ़ितना
के लगाये न लगे और बुझाये न बने 
अब तुम ही कहो कि क्या, जी चाहता है

वो सदा दूर दूर रहता है
नासिहा तू दुरुस्त कहता है
उसपे मरने से कुछ नहीं हासिल
आह भरने से कुछ नहीं हासिल
बेमुरव्वत है बेवफ़ा है वो
मेरे दुशमन का आशना है वो
अब उसे चोड़ना ही बेहतर है
ये भरम तोड़ना ही बेहतर है
मानते हैं तेरे नसीहत को
हाय पर क्या करें तबीयत को
भै! जी चाहता है

पिछले पहर जब ओस पड़े और ठण्डी पवन चले
बिरहा अगन मोरा तन मन फूँके सूनी सेज जले
सब सखियाँ चली पी को रिझाने
मोरे सजन हैं दूर ठिकाने
और मेरा भी जी चाहता है

क्यों आग पे मरते ये हम नहीं कह सकते
सूरत का सवाल है न सीरत की बात है
हम तुम पे मर मिटे ये तबीयत की बात है
भै! जी चाहता है

जी चाहता है चूम लूँ अपनी नज़र को मैं 



        

Related content:

Lyrics in Unicode - Devanagari
Lyrics:
      

aaaaaa ~~~~~ na kha.njar uThegaa na talavaar tumase
aaa ye baazuu mere aazamaaye hu_e hai.n

aur pahachaanataa huu.N khuub tumhaarii nazar ko mai.n
bhai! jaane na duu.Ngaa haath se dil aur jigar ko mai.n

dil aisii shah nahii.n hai jo kaabuu me.n rah sake
bhai! samajhaa_uu.N kis tarah ye kisii bekhabar ko mai.n

aayii hai unake chaa.Nd se chahare ko chuum kar
bhai! jii chaahataa hai chuum luu.N apanii nazar ko main

go zulm behisaab kiyaa is nigah ne
rusavaa kiyaa kharaab kiyaa is nigah ne
ik kaam laajavaab kiyaa is nigah ne
jo tujhako i.ntakhaab kiyaa is nigaah ne
bhai! jii chaahataa hai chuum luu.N apanii nazar ko mai.n

ishq par zor nahii.n hai ye vo aatish fitanaa
ke lagaaye na lage aur bujhaaye na bane 
ab tum hii kaho ki kyaa, jii chaahataa hai

vo sadaa duur duur rahataa hai
naasihaa tuu durust kahataa hai
usape marane se kuchh nahii.n haasil
aah bharane se kuchh nahii.n haasil
bemuravvat hai bevafaa hai vo
mere dushaman kaa aashanaa hai vo
ab use cho.Danaa hii behatar hai
ye bharam to.Danaa hii behatar hai
maanate hai.n tere nasiihat ko
haay par kyaa kare.n tabiiyat ko
bhai! jii chaahataa hai

pichhale pahar jab os pa.De aur ThaNDii pavan chale
birahaa agan moraa tan man phuu.Nke suunii sej jale
sab sakhiyaa.N chalii pii ko rijhaane
more sajan hai.n duur Thikaane
aur meraa bhii jii chaahataa hai

kyo.n aag pe marate ye ham nahii.n kah sakate
suurat kaa savaal hai na siirat kii baat hai
ham tum pe mar miTe ye tabiiyat kii baat hai
bhai! jii chaahataa hai

jii chaahataa hai chuum luu.N apanii nazar ko mai.n